जागरण संवाददाता, करनाल: डीसी निशांत कुमार यादव ने कहा कि लोग अपने घर परिवार के किसी भी शुभ अवसर जैसे जन्मदिन, त्योहार या सालगिरह आदि पर एक पौधा अवश्य लगाएं। साथ ही पौधों को लगाने के साथ-साथ उनका ध्यान भी अवश्य रखें। सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा लगाया हुआ पौधा पेड़ का रूप ले सके। जब तक धरती पर पेड़ रहेंगे तक तब मनुष्य के लिए धरती पर सुखमय जीवन रहेगा, पेड़ों के ना रहने से हमें जीवनदायिनी आक्सीजन नहीं मिलेगी और ना ही धरती पर बरसात होंगे, क्योंकि पेड़ ही बरसात लाने में सहायक होते है।

उपायुक्त ने कहा कि पर्यावरण मे बढ़ता हुआ प्रदूषण का स्तर हम सभी के लिए चिता का विषय है। उन्होंने कहा कि हम सभी को पर्यावरण संरक्षण की दिशा में समय रहते आवश्यक कदम उठाने होंगे और आने वाली पीढ़ी को भी अधिक से अधिक पौधारोपण करने के लिए प्रेरित करना होगा। उन्होंने कहा कि हम सभी को यह संकल्प लेना होगा कि हम किसी भी त्योहर या शुभ अवसर पर पौधारोपण करें और उसका रखरखाव अपने शिशु की भांति करें तभी पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण के स्तर को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मानसून आने को है और पौधारोपण के लिए मॉनसून का समय सबसे अधिक उपयुक्त समय समझा जाता है। ऐसे में यदि जिला का प्रत्येक नागरिक पौधारोपण का संकल्प लें तो निश्चित तौर पर ही हम अपने जिला को और अधिक हरा-भरा बना सकते हैं। वायु प्रदूषण की वजह से अस्थमा, उच्च रक्तचाप, फेफड़े की बीमारियां, आंखों के रोग, सिरदर्द जैसी बीमारियां अधिक होती है। औसतन हर शहरी व्यक्ति किसी न किसी रोग से ग्रसित है। उन्होंने कहा कि कई बड़े शहरों में इतना प्रदूषण बढ़ गया की लोगो का सांस लेना भी मुश्किल हो गया। इन सबसे छुटकारा पाने का एकमात्र उपाय अधिक से अधिक संख्या में पेड़-पौधों को लगाना और उनकी परवरिश करना है।

Edited By: Jagran