जागरण संवाददाता, करनाल :

नशा मुक्त भारत अभियान के तहत जिला प्रशासन निरंतर जागरूकता रैलियां निकाल रहा है। इसी कड़ी में रविवार को बड़ागांव में अर्पणा रिसर्च एवं चेरिटीज चेरिटेबल ट्रस्ट मधुबन के सहयोग से रैली निकाली गई, जिसमें दिव्यांगजन शामिल हुए और बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक की भागीदारी रही।

जागरूकता रैली को जिला समाज कल्याण अधिकारी सत्यवान ढिलोड ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ग्रामीणों ने शपथ ली कि सबसे पहले गांव के हर नागरिक को नशे से बचाने का काम करेंगे। गांव को नशा मुक्त करेंगे। हाथों में तिरंगा लेकर भारत माता की जय और जय जवान जय किसान के नारे लगाए गए। दिव्यांगों के प्रतिनिधियों ने कहा कि देश को नशा मुक्त करने में हरसंभव सहयोग किया जाएगा। जो लोग नशा बेचने का काम करते हैं, वह समाज के दुश्मन हैं:

इस मौके पर जिला समाज कल्याण अधिकारी सत्यवान ढिलोड ने कहा कि नशा समाज को खोखला कर देता है। जो लोग नशा बेचने का काम करते हैं, वह समाज के दुश्मन हैं। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी देश के विकास में बड़ी भूमिका अदा करती है। अगर युवा ही नशे की गर्त में चले जाएंगे तो देश की तरक्की में बाधा बन जाएंगे। नशा मुक्त भारत अभियान में हर व्यक्ति को योगदान देते हुए सरकार का सहयोग करना चाहिए। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि नशा बेचने वालों की सूचना पुलिस प्रशासन को बिना डर दें। नशा तस्करों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर ईश भटनागर, चरण सिंह, पूर्ण सिंह, कर्मवीर फौजी और संघर्ष दिव्यांगजन विकास संगठन के प्रधान नरेश राणा आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran