संवाद सूत्र, नरवाना : क्रांतिकारी युवा संगठन ने सरकारी स्कूलों को बंद करने के विरोध में विश्वकर्मा चौक पर प्रदेश सरकार का पुतला फूंक कर लघु सचिवालय तक आक्रोश रैली निकाल मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

केवाईएस सदस्य कुलदीप ने कहा कि हरियाणा सरकार ने 906 प्राइमरी स्कूलों तथा 338 वरिष्ठ स्कूलों में साइंस संकाय को बंद करने का जन-विरोधी फैसला लिया है। शिक्षा विभाग के अनुसार इन स्कूलों में छात्रों की कम संख्या को देखते हुए, यह फैसला लिया गया है। सरकार ने 1414 प्राइमरी और मिडल स्कूलों को पिछले चरणों में बंद किया है। एक तरफ हरियाणा में सरकारी स्कूलों की दशा पिछले काफी समय से काफी खराब रही है, जिसमे जरूरी सुविधाओं, अध्यापकों और छात्रों को पढ़ाने के लिए प्रोत्साहन की कमी सबसे महत्वपूर्ण समस्याएं रही हैं। इसलिए राज्य सरकार की यह कोशिश होनी चाहिए कि शिक्षा में कमियों को खत्म कर ज्यादा से ज्यादा छात्रों को स्कूल तक पहुंचाए। इसके विपरीत हरियाणा सरकार स्कूलों को बंद करने के लिए सारे प्रयत्न कर रही है। इससे निजी शिक्षा को बढ़ावा मिलेगा और जो स्कूली शिक्षा खरीदने में सक्षम होगा वही पढ़ पाएगा, इसलिए केवाइएस मांग करता हैं कि राज्य के इन स्कूलों को बंद करने के फैसले को वापस लिया जाये और सभी के लिए समान शिक्षा नीति लागू करने की दिशा में ठोस कदम उठाए जाएं। इस मौके पर रवि, मोनू, विकास, जनित, राहुल, पवनदीप, राजू, प्रवीण, ज्योति, सुषमा आदि मौजूद रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस