जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ : शिक्षा के नियम 134ए के तहत उन प्राइवेट स्कूलों में सभी सीटें खाली समझी जाएंगी, जिन्होंने इस नियम के तहत बच्चों को दाखिला तो दिया है, मगर पूरा विवरण पोर्टल पर अपलोड नहीं किया है। विभाग अब दूसरे चरण की दाखिला सूची जारी करने की तैयारी में है। ऐसे में संबंधित स्कूलों की सभी सीटों को खाली मानकर उसके आधार पर ही नए सिर से बच्चों को स्कूल अलाट किए जाएंगे।

दरअसल, 31 मई तक शिक्षा विभाग की ओर से नियम 134ए के तहत मेधावी बच्चों का निजी स्कूलों में दाखिले के लिए पहला चरण ही चलाया गया। इसके साथ ही सभी स्कूलों को यह हिदायत भी जारी की गई है कि वे जितने भी बच्चों को अपने यहां पर दाखिला दें तो उसका पूरा विवरण पोर्टल पर भी अपलोड कर दें ताकि सीटें खाली रहने पर बाकी बच्चों को स्कूल अलाट किए जा सके। मगर इसको लेकर निजी स्कूलों की ओर से रुचि नहीं ली गई। ऐसे में विभाग की ओर से दाखिले के पहले चरण को लगातार आगे बढ़ाया गया। जून शुरू होते ही अब विभाग दाखिले का दूसरा चरण शुरू करने की तैयारी में है। किसी भी वक्त दूसरे चरण के लिए स्कूल अलाट किए जा सकते हैं। खाली सीटों के आधार पर ही स्कूल अलाट किए जाएंगे। मगर सभी स्कूलों ने पहले चरण के दाखिलों का विवरण अभी अपलोड नहीं किया है। ऐसे में विभाग ने सख्त आदेश जारी कर दिए हैं। अब यदि किसी स्कूल ने बच्चों को दाखिला तो दिया है मगर उसका विवरण पोर्टल पर नहीं दिया है तो विभाग द्वारा उस स्कूल की सभी सीटों को खाली समझा जाएगा और उसी आधार पर बच्चों को स्कूल अलाट किए जाएंगे। इसके लिए पूरी तरह स्कूल ही जिम्मेदार होंगे। ---यह है अभी तक की स्थिति दाखिला कमेटी के सदस्य सतीश शर्मा ने बताया कि पूरे जिले में इस नियम के तहत 2003 बच्चों को स्कूल अलाट किए गए थे। इनमें से अभी निजी स्कूलों द्वारा 829 बच्चों को दाखिला देकर एमआइएस पोर्टल पर इसकी जानकारी दी है। इनमें बहादुरगढ़ के 491, बेरी के 102, झज्जर के 104, मातनहेल के 86 तथा साल्हावास के 46 बच्चे शामिल हैं। बार-बार सूचना देने के बावजूद सभी स्कूलों ने दाखिला रिपोर्ट एमआइएस पोर्टल पर नहीं दी है। स्कूलों को दाखिले का डाटा ऑनलाइन देने को कहा गया है ताकि उसी आधार पर दाखिले के दूसरे चरण के लिए स्कूल अलाट किए जा सकें। बहादुरगढ़ में भी कुछ स्कूलों ने दाखिला सूची अपलोड नहीं की है। --- एमआइएस पर दाखिलों का विवरण अपलोड करने के लिए स्कूलों को काफी समय दिया गया है। मगर इसमें लापरवाही की जा रही है। अब जिस स्कूल ने यह विवरण नहीं दिया है, वहां की सभी सीटों को खाली मानकर दूसरे चरण के लिए स्कूल अलाट कर दिए जाएंगे। कभी भी मुख्यालय से यह सूची जारी हो सकती है।

--सुरेंद्र सिंह, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, झज्जर

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस