Move to Jagran APP

आत्मनिर्भर हरियाणा का संदेश देकर युवाओं को दिखाई स्टार्टअप की राह

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के चौधरी रणबीर सिंह सभागार में कार्यशाला का आयोजिन किया गया।

By JagranEdited By: Published: Tue, 07 Sep 2021 07:10 AM (IST)Updated: Tue, 07 Sep 2021 07:10 AM (IST)
आत्मनिर्भर हरियाणा का संदेश देकर युवाओं को दिखाई स्टार्टअप की राह

जागरण संवाददाता, हिसार: गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के चौधरी रणबीर सिंह सभागार में सोमवार को हरियाणा राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद एवं स्वदेशी स्वावलम्बन न्यास के संयुक्त तत्वावधान में कार्यशाला आयोजित हुई। कार्यशाला का विषय आत्मनिर्भर हरियाणा एवं रोजगार सृजन विषय रहा। हरियाणा राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो. बृजकिशोर कुठियाला कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि शामिल हुए। कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने की। इस दौरान पदाधिकारियों ने युवाओं को आत्मनिर्भरता के रास्ते पर चलकर स्टार्टअप की राह दिखाई। उन्होंने अपने उदाहरणों से विद्यार्थियों को प्रेरित किया। विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार, लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, हिसार व स्वदेशी जागरण मंच, हिसार का भी सहयोग रहा। प्रो. नीरज दिलबागी कार्यक्रम समन्वयक, प्रताप सिंह व प्रो. दलबीर सिंह कार्यक्रम सह समन्वयक रहे। इस दौरान प्रदर्शनी भी आयोजित की गई जिसमें विद्यार्थियों ने अपने अनोखे स्टार्टअप व विज्ञान माडल भी दिखा। -------------------

कार्यशाला में यह दिए पांच मंत्र

स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह संगठक सतीश कुमार ने युवाओं को आत्मनिर्भरता के पांच मंत्र दिए। उन्होंने कहा कि अपने जीवन में आजीविका कमाना जल्दी से जल्दी शुरु करें। पढ़ाई के दौरान ही आजीविका कमाना आरम्भ कर दें। उन्होंने दुनिया के सबसे कामयाब व्यक्तियों का उदाहरण देते हुए बताया कि उन्होंने 20 वर्ष से भी कम आयु में अपनी आजीविका कमाना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि हमेशा याद रखें कि राष्ट्र सर्वोपरि है तथा स्वदेशी आवश्यक है।

---------------

आत्मनिर्भरता का बज चुका है बिगुल

हरियाणा राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो. बृजकिशोर कुठियाला ने कहा कि भारत में आत्मनिर्भरता की क्रांति का बिगुल बज चुका है। प्रत्येक युवा इस क्रांति का सेना नायक है। आने वाले समय में भारत विश्व को नेतृत्व देने वाला है। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे केवल मूकदर्शक होकर इस क्रांति को देखें ना, बल्कि इसमें भागीदारी करके अपना सक्रिय योगदान दें।ं


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.