Move to Jagran APP

INLD Candidates List Release: इनेलो की पहली सूची जारी, तीन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा, ससुर; जेठानी-देवरानी में टक्कर

जजपा के बाद इनेलो ने भी हिसार सीट (Haryana Lok Sabha Election 2024) से कैंडिडेट उतार दिए हैं। जजपा के नैना चौटाला का मुकाबला करने के लिए इनेलो ने सुनैना चौटाला को उम्मीदवार बनाया है। अब ऐसे में भाजपा ने रणजीत सिंह चौटाला को मैदान में उतारा है तो वहीं जजपा ने नैना चौटाला पर दांव खेला है। ऐसे में ससुर जेठानी और देवरानी में कड़ी टक्कर की उम्मीद है।

By Jagran News Edited By: Monu Kumar Jha Published: Thu, 18 Apr 2024 07:07 PM (IST)Updated: Thu, 18 Apr 2024 07:23 PM (IST)
Haryana News: इनेलो की पहली सूची जारी, तीन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा।

जागरण संवाददाता, चंड़ीगढ़। (INLD Candidiate Ist List Release Hindi News) इंडियन नेशनल दल के नेता और पार्टी महासचिव अभय चौटाला ने हिसार सीट से सुनैना चौटाला को मैदान में उतारा है। पार्टी के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला खुद कुरुक्षेत्र से चुनावी ताल ठोक रहे हैं। जबकि अंबाला सीट (Ambala Lok Sabha Seat 2024) से गुरप्रीत सिंह पर भरोसा जताया है।

जजपा ने कैंडिडेट के रूप में नैना चौटाला पर खेला दांव

इससे पहले जजपा ने हिसार सीट से अपने कैंडिडेट उतार थे और वहां से दुष्यंत चौटाला ने कैंडिडेट के रूप में नैना चौटाला पर बाजी लगाई है। वहीं भाजपा ने रणजीत सिंह चौटाला (Ranjit Singh Chautala) को अपना प्रत्याशी बनाया है।

अगर जेजेपी (JJP News) की बात करें तो प्रदेश की चार लोकसभा सीटों हिसार, भिवानी-महेंद्रगढ़ (Bhiwani-Mahendragarh Lok Sabha Seat 2024), सिरसा और कुरुक्षेत्र में जीतने के इरादे से चुनाव लड़ेगी, जबकि करनाल लोकसभा सीट का चुनाव पार्टी की दमदार उपस्थिति दर्ज कराने के लिए लड़ा जाएगा।

यह भी पढ़ें: Voter Card: अगर अभी भी नहीं बनवाया वोटर कार्ड तो घबराएं नहीं, इस डॉक्यूमेंट के साथ कर पाएंगे चुनाव में मतदान

दुष्यंत चौटाला नहीं लड़ेंगे चुनाव

हिसार से दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) और भिवानी से डॉ. अजय सिंह चौटाला (Ajay Singh Chautala) स्वयं सांसद रह चुके हैं, जबकि सिरसा लोकसभा (Sirsa Lok Sabha Seat 2024) सीट ताऊ देवीलाल से जुड़ी है। इसलिए इन सीटों पर मजबूत उम्मीदवार दिए जाने चाहिए।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Elections: हरियाणा में क्यों एक-दूसरे के लिए चुनौती बने हुड्डा और एसआरके गुट, कांग्रेस के लिए बनी मुसीबत


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.