संवाद सहयोगी, बालसमंद : जिले के गांव काबरेल निवासी प्रदीप पिछले दो साल से जैविक सब्जियां अपने खेत में उगा रहे हैं। फिलहाल घीया, तोरी, पेठा और ककड़ी की सवा दो एकड़ में सब्जियां उगाई हुई हैं। गांवों से लेकर शहर तक जहर मुक्त सब्जियों की मांग रहती है। किसान प्रदीप गोशाला से ही गाय के गोबर से देसी खाद तैयार कर रहे हैं। प्रदीप सोशल मीडिया के माध्यम से ऑनलाइन आर्डर बुक करते हैं और उन तक जैविक सब्जियां पहुंचा रहे हैं। जीजेयू में मशीन ऑपरेटर के पद पर तैनात किसान प्रदीप ने बताया कि वे पिछले दो साल से जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए जहर मुक्त सब्जियां उगाते हैं। गोशाला के दूध के साथ शहर के लोगों की जैविक सब्जियों की मांग रहती है। इसके अलावा आसपास के गांव, आदमपुर मंडी, हरियाणा एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय और जीजेयू के प्रोफेसर की मांग रहती है।

-------------

किसान ले रहे राय

किसान प्रदीप तो जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए पहल किए हुए हैं। इनके साथ अन्य किसान भी प्रदीप से जैविक खेती के गुर सिख रहे हैं और अपनी सभी फसलें जैविक उगाना चाहते हैं। जहरमुक्त फसलों से किसान जैविक खेती को बढ़ावा देंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस