Move to Jagran APP

Ellenabad ByPoll: ऐलनाबाद उपचुनाव के विरोध में आंदोलनकारियों ने उठाए काले झंडे, नामाकंन भरने गए प्रत्याशी, छावनी में तब्दील किया रास्ता

ऐलनाबाद उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी गोबिंद कांडा विधायक गोपाल कांडा के भाई हैं। बीते दिनों में भाजपा ज्वाइन की है। इस पहले गोविंद कांडा साल 2014 और 2019 दोनों ही विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत तो अजमा चुके हैं लेकिन उन्हें चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था।

By Naveen DalalEdited By: Published: Thu, 07 Oct 2021 02:50 PM (IST)Updated: Thu, 07 Oct 2021 02:50 PM (IST)
आंदोलनकारियों ने प्रत्याशियों को दिखाए काले झंडे।

डिजिटल डेस्क। ऐलनाबाद उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी गोबिंद कांडा ने नामांंकन दाखिल कर‍ दिया है। नामांकन के दौरान भाजपा प्रत्याशी को आंदोलनकारियों के विरोध का सामना करना पड़ा। आंदोलनकारियों ने गोबिंद कांडा को काले झंडे दिखाए। वहीं तथाकथित संयुक्त किसान मोर्चा के उम्मीदवार विकल पचार को भी किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा। आंदोलनकारियों के विरोध की वजह से डीसी, एसपी सहित प्रशासनिक अधिकारी और दंगा रोधी गाड़ियां व आरपीएफ तैनात मौके पर मौजूद रहीं।

प्रत्याशी विकल पचार का हुआ विरोध

किसान नेता विकल पचार भी ऐलनाबाद में नामांकन भरने पहुंचे। जहां किसान संगठनाें के प्रतिनिधियों ने उनके खिलाफ नारेबाजी की। हरियाणा संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों ने विकल पचार को ऐलनाबाद चुनाव में उतारने का एलान किया है हालांकि संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े योगेंद्र यादव ने कालांवाली में बुधवार को कहा था कि विकल पचार को मोर्चे से निकाला हुआ है। ऐलनाबाद उपचुनाव में मोर्चा किसी प्रत्याशी को नहीं खड़ा करेगा, भाजपा प्रत्याशी का विरोध करेगा।

8 तारीख को नामांकन दाखिल करेंगे अभय चौटाला

दरअसल इनेलो के नेता अभय चौटाला ने आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में विधायक पद से इस्तीफा दिया था। जिसके बाद ऐलनाबाद सीट के लिए उपचुनाव करवाया जा रहा है। इनेलो की ओर से अभय चौटाला को प्रत्याशी के रूप में चुनावी मैदान में उतारा गया है। जिसके लिए वह 8 अक्‍टूबर को अपनी नामांकन दाखिल करवाने पहुंचेंगे।

विधायक गोपाल कांडा के भाई हैं भाजपा प्रत्याशी गोबिंद कांडा

ऐलनाबाद उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी गोबिंद कांडा विधायक गोपाल कांडा के भाई हैं। जिन्होंने बीते दिनों में भाजपा ज्वाइन की है। इस पहले गोबिंद कांडा साल 2014 और 2019 दोनों ही विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत तो अजमा चुके हैं लेकिन उन्हें चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। वहीं इस सीट से साल 2019 में भाजपा की टिकट पर पवन बेनीवाल ने चुनाव लड़ा था। जिन्हें भी हार का सामना कर पड़ा था। हालांकि उन्होंने किसान आंदोलन के समर्थन में बीजेपी से इस्तीफा दे दिया था।

किसान आंंदोलन के चलते उपचुनाव माना जा रहा है महत्वपूर्ण

पिछले लंबे समय से किसानों का आंदोलन चल रहा है। जिसके चलते ही अभय चौटाला ने इस सीट से इस्तीफा दिया था। वहीं ऐलनाबाद विधानसभा सीट का उपचुनाव किसान आंदोलन के मद्देनजर अहम माना जा रहा है। फिलहाल इनेलो की ओर से अभय चौटाला तो बीजेपी के ओर से गोबिंद कांडा चुनावी मैदान में उतरे हैं। लेकिन कांग्रेस ने अभी तक उपचुनाव के लिए प्रत्याशी के नाम का एलान नहीं किया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.