बहादुरगढ़, जेएनएन। तीन कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शामिल होकर घर लौट रहे एक आंदोलनकारी की रेलवे स्टेशन पर किसान एक्सप्रेस की चपेट में आने से मौत हो गई। राजकीय रेलवे पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भिजवा दिया है। मृतक तीन बच्चों का पिता था और पांच दिन पहले ही आंदोलन में शामिल होने के लिए अपने गांव से बहादुरगढ़ पहुंचा था। पंजाब के जिला संगरूर के गांव लाडी का रहने वाला 47 वर्षीय गुरुलाल पुत्र सुखदेव सिंह दोपहर बाद घर लौटने के लिए बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पर आया था।

प्लेटफार्म एक पर किसान एक्सप्रेस में चढ़ते समय अचानक उसका पैर फिसल गया और वह ट्रेन की चपेट में आ गया। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। जीआरपी थाना प्रबंधक होशियार सिंह ने बताया कि मृतक के साथी किसान जगतार सिंह ने उसके शव की शिनाख्त की है। वह आंदोलन में पकौड़ा चौक के पास डटा हुआ था। वीरवार को करीब तीन बजे जब किसान एक्सप्रेस दिल्ली से बटिंडा की तरफ जाने के लिए प्लेटफार्म पर पहुंची तो उसी दौरान यह हादसा हो गया। शव का पोस्टमार्टम शुक्रवार को कराया जाएगा।

Edited By: Manoj Kumar