जागरण संवाददाता, गुड़गांव : देशभर में तम्बाकू व धूमपान उत्पादों की प्रभावी रोकथाम के लिए व्यक्ति को व्यक्तिगत, सार्वजनिक स्थल व शिक्षण संस्थाओं पर पहल करने की आवश्यकता है। गुड़गांव में इसकी रोकथाम करने के लिए पुलिस अन्य सहयोगी संस्थाओं के साथ मिलकर काम करेगी।

वायस आफ तम्बाकू विक्टिमस और डिपार्टमेंट आफ कंज्यूमर अफेयर्स की तरफ से शनिवार को आयेाजित प्रेस वार्ता मे गुड़गांव पुलिस के एसीपी राजेश कुमार ने कहा कि पुलिस आमजन के सहयोग से शिक्षण संस्थाओं व सार्वजनिक स्थलों को तम्बाकू मुक्त बनाने के लिए काम करेगी। इस मौके पर संस्था के संजय सेठ ने कहा कि कर्नाटक और केरल जैसे राज्यों की पुलिस ने तम्बाकू की खपत को कम करने में सराहनीय भूमिका निभाई है। फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट के डा.वेदान्त काबरा ने कहा की कैंसर का 40 प्रतिशत कारण तम्बाकू है।

देश में 2800 लोग रोज तम्बाकू सेवन से असमय मर जाते हैं और साल भर में करीब 1 लाख लोगों की मृत्यु होती है। वीओटीवी की डायरेक्टर आशिमा सरीन ने इस अवसर पर कहा कि उपभोक्ता मामलों के विभाग भारत में ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (2010) के अनुसार 27.5 करोड़ भारतीय किसी न किसी रूप में तम्बाकू का उपभोग करते हैं।