जागरण संवाददाता, फरीदाबाद: साइलेंसर में छेड़छाड़ कर बुलेट मोटरसाइकिल से पटाखे जैसी आवाज निकालने के मामले में पुलिस अब आटो पार्ट विक्रेता, मैकेनिक और वेल्डर पर भी कार्रवाई करेगी। एसीपी ट्रैफिक विनोद कुमार ने शहर में अलग-अलग जगह से आटो पार्ट विक्रेता, मैकेनिक और वेल्डरों को बुलाकर इस संबंध में सख्त निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें- Faridabad: ठेकेदार पर लाखों रुपये बकाया फिर भी चल रहा था स्वीमिंग पूल, डीसी के आदेश पर कराया गया कब्जा मुक्त

उन्होंने कहा कि इन तीनों की भूमिका के बिना मोटरसाइकिल के साइलेंसर में छेड़छाड़ नहीं हो सकती। उन्होंने बताया कि दो दिन में पुलिस ने 325 बुलेट मोटरसाइकिलों की जांच की। इनमें 30 मोटरसाइकिल के साइलेंसर में छेड़छाड़ की गई थी, जिससे उनमें से पटाखे जैसी आवाज निकल रही थी। इन सभी मोटरसाइकिलों को जब्त कर लिया गया। एसीपी विनोद कुमार ने कहा कि बुलेट मोटरसाइकिल या अन्य वाहन साइलेंसर माडिफाई होने के बाद पटाखे जैसी आवाज से दहशत फैलाने का काम करते हैं। अगर किसी बुलेट मोटरसाइकिल के साइलेंसर में छेड़छाड़ हुई मिलती है तो उसके मालिक से जानकारी ली जाएगी कि उसने किस व्यक्ति से आटो पार्ट खरीदे, किस मैकेनिक और वेल्डर ने साइलेंसर में छेड़छाड़ की। अगर किसी का नाम एक अक्टूबर के बाद आया तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

सभी को हिदायत दी गई है कि अपनी दुकानों के सामने बोर्ड पर लिखना होगा कि यहां मोटरसाइकिल के साइलेंसर मोडिफाई नहीं होते, यह कानूनन अपराध है। एसीपी ने ट्रैफिक थाना प्रभारी दर्पण कुमार सहित सभी ट्रैफिक इंस्पेक्टर को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र में गश्त करके दुकानदारों, मैकेनिक और वेल्डर को इस संबंध में जानकारी दें और जागरूक करें।

यह भी पढ़ें- Faridabad News: सात समंदर पार से आए मेहमानों ने लिया रामलीला का आनंद, बोले- बचपन की यादें हुई ताजा

कुछ आवारा किस्म में युवक स्कूल कालेजों के बाहर मोटरसाइकिल से पटाखे जैसी आवाज निकालते हैं। ऐसे में पुलिस स्कूल कालेजों के बाहर गश्त कर ऐसे युवकों को पकड़ेगी। उनकी मोटरसाइकिल जब्त की जाएंगी। कम से कम 10 हजार रुपये का चालान किया जाएगा। चालान का भुगतान करने और साइलेंसर को नियमों के अनुसार करने पर ही मोटरसाइकिल छोड़ी जाएगी।

Edited By: Versha Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट