Move to Jagran APP

PM Modi In Haryana: कटारिया की पहली पुण्यतिथि के मौके पर आज अंबाला आएंगे PM मोदी, लोकसभा क्षेत्र में रैली को करेंगे संबोधित

Ambala Lok Sabha Election 2024 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज हरियाणा के अंबाला और सोनीपत में रैली करेंगे। इस दौरान वो अंबाला कुरुक्षेत्र और करनाल के मतदाताओं को साधने का प्रयास करेंगे। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी की ये पहली रैली है। पीएम मोदी रतनलाल कटारिया की पहली पुण्यतिथि (Kataria death anniversary) पर चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। बीजेपी से रतनलाल कटारिया की पत्नी बंटो कटारिया मैदान में हैं।

By Deepak Behal Edited By: Deepak Saxena Published: Sat, 18 May 2024 10:30 AM (IST)Updated: Sat, 18 May 2024 10:30 AM (IST)
कटारिया की पहली पुण्यतिथि के मौके पर आज अंबाला आएंगे PM मोदी (फाइल फोटो)।

दीपक बहल, अंबाला। यहां से सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड बनाने वाले रतनलाल कटारिया की पहली पुण्यतिथि पर 18 मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चुनावी रैली (PM Modi Ambala rally) को संबोधित करेंगे। इस रैली से वह जीटी बेल्ट के अंबाला, कुरुक्षेत्र और करनाल लोकसभा क्षेत्र के मतदाताओं को साधेंगे। प्रधानमंत्री अंबाला शहर के पुलिस लाइन मैदान में पहुंचेंगे। अंबाला से मोदी का नाता रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद उनका अंबाला में यह पहला दौरा होगा।

प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी की अंबाला में पहली रैली

बंतो कटारिया ने बताया कि प्रधानमंत्री ने खुद रतनलाल कटारिया की पहली पुण्यतिथि ( PM Modi in Haryana) पर आने की बात कही थी। पहली बार प्रधानमंत्री अंबाला में भाजपा प्रत्याशी के लिए आ रहे बंतो कटारिया पहली बार चुनावी मैदान में उतरी हैं। रतनलाल कटारिया से शादी होने से चार साल पहले ही यानी 1980 से बंतो कटारिया आरएसएस से जुड़ गई थीं। भाजपा प्रत्याशी के लिए चुनाव प्रचार करने के लिए प्रधानमंत्री पहली बार रैली करने आ रहे हैं। अटल बिहारी वाजपेयी अंबाला में चुनाव प्रचार के लिए आए, लेकिन उस दौरान वे प्रधानमंत्री नहीं थे।

ये भी पढ़ें: Haryana News: 'हरियाणा में 57 फीसदी रिजर्वेशन', अधिकतम सीमा से पार आरक्षण पर हाई कोर्ट सख्त; सरकार से मांगा जवाब

तीन बार अंबाला लोकसभा सीट से जीते थे कटारिया

रतनलाल कटारिया अंबाला लोकसभा सीट पर तीन बार जीत दर्ज कर चुके हैं। साल 1999 में उन्होंने यह सीट जीती। इसके बाद साल 2004 व 2009 में वे कांग्रेस की कुमारी सैलजा से हार गए थे। साल 2014 में वे भारी बहुमत से जीते, जबकि 2019 में कटारिया ने रिकॉर्ड मतों से जीत दर्ज की थी।

ये भी पढ़ें: Haryana News: हरियाणा में सस्‍ता होगा सफर, चुनाव के बाद रोडवेज के बेड़े में शामिल होंगी 45 नई इलेक्ट्रिक बसें


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.