Move to Jagran APP

गुजरात में 220 दिन बाद रिकार्ड केस दर्ज, जल्‍द आ सकती है कोरोना की आंधी

मेडिकल विशेषज्ञ मुकेश माहेश्वरी ने चेतावनी देते हुए कहा गुजरात में आने वाले एक से दो माह में कोरोना की आंधी आसकती है। बीते 4 माह में 5000 से अधिक कोरोना के केस सामने आए हैं। करीब 220 दिन बाद गुजरात में कोरोना के रिकार्ड केस दर्ज किए गए हैं।

By Babita KashyapEdited By: Published: Wed, 05 Jan 2022 01:54 PM (IST)Updated: Wed, 05 Jan 2022 01:54 PM (IST)
गुजरात में कोरोना संक्रमण में लगातार इजाफा हो रहा है

अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। गुजरात में कोरोना संक्रमण में लगातार इजाफा हो रहा है बीते 4 माह में 5000 से अधिक कोरोना के केस सामने आए हैं। करीब 220 दिन बाद गुजरात में कोरोना के रिकार्ड केस दर्ज किए गए हैं। ऐसा लग रहा है कि गुजरात में कोरोना संक्रमण के मामले हर एक-दो दिन में दोगुने होते जा रहे हैं। मेडिकल विशेषज्ञ मुकेश माहेश्वरी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि इसी दर से कोरोना संक्रमण बढ़ता है तो आगामी एक दो महीने में गुजरात में कोरोना की आंधी आ सकती है।

loksabha election banner

जनवरी में गुजरात में एक जनवरी को करीब 1000 केस सामने आए थे, जो 3 जनवरी को 1259 तथा 4 जनवरी को 2265 तक पहुंच गए। गुजरात में कोरोना से अब तक 10125 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि मंगलवार को 24 घंटे में गुजरात में 2265 केस दर्ज किए गए। गुजरात में एक्टिव केसों की संख्या 7881 पहुंच गई है गुजरात के 33 में से 29 जिलों में संक्रमण फैल चुका है इनमें सबसे अधिक अहमदाबाद में 1290 केस दर्ज किए गए हैं जबकि सूरत में 415, वडोदरा में 86, राजकोट में 36, आणंद में 70, गांधीनगर में 35, खेड़ा 34, अहमदाबाद ग्रामीण एवं मोरबी जिले में 24 -24, जामनगर में 23, भावनगर में 22, राजकोट ग्रामीण में 21, नवसारी में 18, मेहसाणा में 14, पंचमहाल में 14, जूनागढ़ में तेरह, सूरत ग्रामीण एवं वलसाड में नौ नौ केस दर्ज किए गए।

गुजरात सरकार ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकारी दफ्तरों में वैक्सीन की दोनों डोज लगाने वालों को है प्रवेश देने की बात कही है। वैक्सीन नहीं लगाने वालों को सरकारी दफ्तर सचिवालय आदि स्थलों पर प्रवेश नहीं मिलेगा। गुजरात हाई कोर्ट ने भी सतर्कता बरतते हुए अदालत परिसर में केवल वकीलों को ही प्रवेश देने के निर्देश जारी किए हैं उनके सहयोगी वकील भी अदालत में उनके साथ नहीं जा सकेंगे। ‌

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के गुजरात संयोजक मुकेश माहेश्वरी का कहना है कि दो मास्क लगाने शारीरिक दूरी रखने तथा वैक्सीन की दोनों डोज लगाना ही इससे बचाव है। अगर सतर्कता नहीं बरती गई तो गुजरात में तीसरी लहर घातक साबित हो सकती है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.