Move to Jagran APP

आयकर विभाग ने गुजरात के चायवाले को भेजा 49 करोड़ पेनल्टी का नोटिस, सच्चाई जानकर हो जाएंगे हैरान

गुजरात में एक चायवाले को आयकर विभाग ने 49 करोड़ के जुर्माने का नोटिस भेजा है यह जानकर वह हैरान रह गया। दरअसल चाय विक्रेता खेमराज दवे के खाते में 34 करोड़ रुपये के अवैध ट्रांजेक्‍शन्‍स को लेकर इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने यह नोटिस भेजा है। इसके पहले भी दवे को दो नोटिस जारी किए गए थे लेकिन अंग्रेजी भाषा न जानने के कारण उन्‍होंने उसे नजरअंदाज कर दिया।

By Jagran News Edited By: Prateek Jain Published: Tue, 21 May 2024 10:03 AM (IST)Updated: Tue, 21 May 2024 10:03 AM (IST)
गुजरात में एक चायवाले को आयकर विभाग ने 49 करोड़ के जुर्माने का नोटिस भेजा है।

डिजिटल डेस्‍क, नई दिल्‍ली। गुजरात में एक चायवाले को आयकर विभाग ने 49 करोड़ के जुर्माने का नोटिस भेजा है, यह जानकर वह हैरान रह गया। दरअसल, चाय विक्रेता खेमराज दवे के खाते में 34 करोड़ रुपये के अवैध ट्रांजेक्‍शन्‍स को लेकर इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने यह नोटिस भेजा है।

इसके पहले भी दवे को दो नोटिस जारी किए गए थे, लेकिन अंग्रेजी भाषा न जानने के कारण उन्‍होंने उसे नजरअंदाज कर दिया। जब तीसरी बार अगस्‍त 2023 में भी नोटिस आया तो वह इसे लेकर वकील सुरेश जोशी के पास चले गए और पूरा मामला जाना।

वकील ने समझाया नोटिस किसलिए मिला

जोशी ने बताया कि यह नोटिस उन्‍हें वित्तीय वर्ष 2014-15 और 2015-16 के दौरान अवैध लेनदेन को लेकर लगाई टैक्‍स पेनाल्‍टी का है। वहीं, उनके अकाउंट में ऐसा कोई ट्रांजेक्‍शन नहीं था, इसलिए उन्होंने पाटन में एक इनकम टैक्‍स अधिकारी से मुलाकात की और पूरी बात बताई। इसके बाद आईटी अधिकारी ने उन्‍हें बताया कि किसी और ने उनके नाम पर खाता खोलकर इसका इस्तेमाल किया है।

दो भाइयों पर गया चायवाले का शक

इसके बाद दवे को समझ आ गया कि यह काम किसने किया है। दरअसल, जि‍न दो भाइयों को वह लगभग 10 साल से चाय पिला रहे थे। उन्‍हीं ने धोखे से उनकी दस्‍तावेजों का गलत इस्‍तेमाल किया। इसके बाद उन्‍होंने थाने में केस दर्ज कराया।

दर्ज एफआईआर के अनुसार, बनासकांठा के कांकरेज के रहने वाले खेमराज दवे वर्ष 2014 से पाटन कॉमोडिटी बाजार में चाय की दुकान चला रहे हैं। तभी से वहां उनकी दुकान से मेहसाणा के रहने वाले अल्पेश पटेल और विपुल पटेल के कार्यालय में चाय भेजी जा रही थी। 

पैन कार्ड-बैंक अकाउंट लिंक कराने के लिए मांगी थी मदद

2014 में दवे ने अपना पैन कार्ड बैंक खाते से लिंक करने के लिए अल्पेश से सहायता मांगी थी और उसे अपना आधार कार्ड, पैन कार्ड और आठ फोटो दी थीं। इसके बाद अल्पेश दवे की चाय दुकान पर गया और उससे कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवा लिए और बाद में इनकम टैक्‍स विभाग के नियमों का हवाला देते हुए फोटोकॉपी लेकर दवे का आधार कार्ड वापस कर दिया।

पाटन सिटी बी डिवीजन पुलिस ने आरोपि‍यों के खिलाफ विश्वासघात, धोखाधड़ी, जालसाजी, जाली दस्तावेजों को असली के रूप में पेश करना समेत कई धाराओं में मामला दर्ज किया है। जानकारी के अनुसार, दोनों भाइयों से पूछताछ की गई है, लेकिन अभी तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.