अहमदाबाद, शत्रुघ्न शर्मा। गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी एवं कांग्रेस के बीच भले सीधा मुकाबला रहा लेकिन एआईएमआईएम गोधरा नगरपालिका में सत्ता पर काबिज होकर एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली। एआईएमआईएम के प्रदेश प्रवक्ता शमशाद पठान ने बताया कि 44 सदस्यों वाली गोधरा नगरपालिका में ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) पार्टी के सात पार्षद जीत कर आए हैं लेकिन निर्दलीय 17 पार्षदों के समर्थन से एआईएमआईएम गोधरा नगरपालिका पर काबिज हो गई है। 

 निर्दलीय 17 पार्षदों में 5 हिंदू पार्षद भी शामिल है जिन्होंने एआईएमआईएम का समर्थन किया है। सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने गुजरात में अपनी जोरदार शुरुआत की है। अहमदाबाद महानगर पालिका में एआईएमआईएम के 9 पार्षद जीत कर आए हैं जबकि गोधरा तथा मोडासा नगरपालिका में एआईएमआईएम को अच्छा समर्थन मिला है।

 पहले ही प्रयास में शानदार शुरुआत

आम आदमी पार्टी ने सूरत महानगर पालिका में शानदार प्रदर्शन कर अपनी विपक्ष की भूमिका तय कर ली लेकिन एआईएमआईएम ने पहले ही प्रयास में नगरपालिका पर कब्जा कर अपनी शानदार शुरुआत की है। गोधरा नगरपालिका के सदस्यों की संख्या 44 है तथा नगरपालिका की सत्ता पर काबिज होने के लिए 23 पार्षदों की जरूरत होती है एआईएमआईएम को यहां 24 पार्षदों का समर्थन मिला है गोधरा में इससे पहले भारतीय जनता पार्टी सत्ता पर काबिज थी लेकिन एआईएमआईएम ने गोधरा नगरपालिका भाजपा से छीन ली।

Edited By: Babita Kashyap