Move to Jagran APP

EURO 2024: म्यूनिख में 16 वर्षीय यमाल का कमाल, फ्रांस को 2-1 से हराकर फाइनल में मारी स्पेन ने एंट्री

म्यूनिख के एलायंज फुटबाल एरिना में मंगलवार रात को स्पेन के युवा खिलाड़ी लामिन यमाल ने दुनिया को दिखाया कि क्यों उन्हें भविष्य का बड़ा सितारा माना जा रहा है। 16 वर्षीय यमाल ने मैच के 21वें मिनट में स्पेन के लिए न केवल बराबरी का गोल दागा बल्कि वह इस टूर्नामेंट के इतिहास में गोल करने वाले सबसे युवा खिलाड़ी भी बन गए।

By Jagran News Edited By: Priyanka Joshi Wed, 10 Jul 2024 10:48 PM (IST)
17वें जन्मदिन के एक दिन बाद रविवार को फाइनल खेलने उतरेंगे यमाल

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। म्यूनिख के एलायंज फुटबाल एरिना में मंगलवार रात को स्पेन के युवा खिलाड़ी लामिन यमाल ने दुनिया को दिखाया कि क्यों उन्हें भविष्य का बड़ा सितारा माना जा रहा है। 16 वर्षीय यमाल ने मैच के 21वें मिनट में स्पेन के लिए न केवल बराबरी का गोल दागा, बल्कि वह इस टूर्नामेंट के इतिहास में गोल करने वाले सबसे युवा खिलाड़ी भी बन गए।

यमाल के कमाल से तीन बार की चैंपियन स्पेन ने सेमीफाइनल में फ्रांस को 2-1 से हराकर यूरो कप के फाइनल में जगह बना ली। तीन दिन बाद 13 जुलाई को अपना 17वां जन्मदिन मनाने वाले यमाल से पहले यूरो में गोल करने वाले सबसे युवा खिलाड़ी स्विट्जरलैंड के जोहान वोनलैंथन थे, जिन्होंने 2004 में फ्रांस के विरुद्ध गोल दागा था। स्पेन की नजरें अब अपने चौथे रिकार्ड पर हैं।

17वें जन्मदिन के एक दिन बाद रविवार को फाइनल खेलने उतरेंगे यमाल

स्पेनिश टीम यमाल के 17वें जन्मदिन के एक दिन बाद रविवार को बर्लिन में होने वाले फाइनल में इंग्लैंड या नीदरलैंड्स के बीच होने वाले सेमीफाइनल के विजेता से भिड़ेगी। स्पेन के कोच डे ला फुएंते ने इंग्लैंड और नीदरलैंड्स को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी टीम फाइनल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेगी। फ्रांस के लिए शुरुआत बेहद अच्छी रही, जब आठवें मिनट में रैंडल कोलो मुआनी ने बिना मास्क के खेल रहे कप्तान काइलिएन एमबापे के संतुलित क्रास पर शानदार हेडर लगाकर गोल किया।

हालांकि इसके बाद फ्रांस के लिए मैच में कुछ भी अच्छा नहीं रहा। मैच के 21वें मिनट में वह पल आया जब यमाल ने मोराता के पास पर बाक्स के बाहर से शानदार किक लगाकर गेंद को गोल पोस्ट में डालकर स्टेडियम में मौजूद स्पेनिश प्रशंसकों को झूमने का मौका दिया तो फ्रांस के प्रशंसकों को सदमे में भेज दिया। फ्रांस की टीम इससे उबरी भी नहीं थी कि चार मिनट बाद ही डैनी ओल्मो ने फ्रांस की बढ़त को दोगुना कर दिया और यही गोल निर्णायक साबित हुआ।

हालांकि दूसरे हाफ में फ्रांस ने गेंद पर कब्जा बनाए रखा, लेकिन वह गोल नहीं कर पाई। यमाल ने मैच के बाद कहा, शुरुआत में गोल खाने के बाद हम मुश्किल स्थिति में थे। मैंने सिर्फ गेंद पर कब्जा किया और उसे सही तरह से गोल में डाला। मैं बहुत खुश हूं। मैं बहुत अधिक नहीं सोचता हूं। बस अपने खेल का आनंद लेता हूं और टीम की मदद करने की कोशिश करता हूं। मैं गोल करके और टीम की जीत से बहुत खुश हूं।स्पेन यूरो 2024 में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम रही है। यह एकमात्र टीम है जिसने अपने सभी मैच जीते हैं और 13 गोल किए हैं, जो यूरोपीय चैंपियनशिप में सबसे अधिक गोल करने के स्पेनिश रिकार्ड के बराबर और फ्रांस के 1984 में बनाए गए रिकार्ड के एक गोल कम है।

सेमीफाइनल में शानदार जीत के बाद फुएंते ने कहा, मुझे यकीन है कि फाइनल पूरी तरह से अलग होगा। यह ऐसे प्रतिद्वंदी के खिलाफ होगा जो हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करेगा। भले ही यह सुनने में अच्छा नहीं लगता हो लेकिन अभी सुधार की गुंजाइश है।

काम नहीं आया एमबापे का मास्क उतारना

ग्रुप चरण में टूटी हुई नाक के बाद सभी मैच मास्क लगाकर खेलने वाले एमबापे सेमीफाइनल में मास्क के बिना उतरे, लेकिन यहां वंडरकिड यमाल ने उन्हें मात दे दी। फ्रांस की हार के साथ ही एमबापे के यूरो कप का भी निराशाजनक अंत हुआ और अब वह अपने नए क्लब रीयल मैड्रिड से जुड़ने से पहले छुट्टी पर जाएंगे। मैच के बाद एमबापे ने कहा, मेरा लक्ष्य टीम को यूरोपियन चैंपियन बनाना था, मेरा लक्ष्य अच्छा खेलना था, लेकिन मैं इनमें से कुछ भी नहीं कर पाया। यह निराशाजनक था। मास्क के बिना खेलने पर एमबापे ने कहा, मैं इससे तंग आ चुका था, मुझे ठीक से दिखाई नहीं दे रहा था। मैंने डाक्टर से बात की और उन्होंने निर्णय मुझ पर छोड़ा था। मुझे इसका जरा भी पछतावा नहीं है।