भारत के रंग TVS Radeon के संग- आगरा शहर की दिलचस्प कहानी एक कलाकार की जुबानी

Story of Agra City With TVS Radeon
Publish Date:Thu, 30 Sep 2021 09:18 PM (IST)Author: Author: Manish Mishra

नई दिल्‍ली, ब्रांड डेस्‍क। एक खूबसूरत शहर है, जिसे ताजमहल और ऐतिहासिक स्मारकों की वजह से पूरी दुनिया में पहचान मिली हुई है। इस शहर का एक समृद्ध इतिहास है, जो शहर और उसके आसपास के कई स्मारकों में परिलक्षित होता है। देश-विदेश के पर्यटक इस शहर को खासकर ताजमहल को जानने के लिए मन में कई सवाल लेकर आते हैं, वैसे खूबसूरत ताजमहल को देखकर उनकी सारी शंकाएं दूर हो जाती है। ताजमहल को 1983 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया था।

कलीम आगरा को उसी तरह समझते हैं, जैसे TVS भारतीय कस्टमर को

जयपुर से अपने सफर की शुरुआत करने के बाद Jagran Hitech टीम अपने दूसरे पड़ाव पर आगरा पहुंची, अपने कार्यक्रम ‘भारत के रंग TVS Radeon के संग’ के साथ। टीम ने आगरा को न केवल स्मारकों बल्कि करोबार और सांस्कृतिक दृष्टि से भी जानने की कोशिश की। खास बात यह है कि उनके साथ आगरा के संगीतकार, सॉफ्टवेयर इंजीनियर और इतिहासकार कलीम थे, जिन्होंने शहर के इतिहास और कहानियों को अपनी कला के जरिए जीवित रखा है। कलीम आगरा को उसी तरह समझते हैं, जैसे TVS भारतीय कस्टमर को।

‘भारत के रंग TVS Radeon के संग’- आगरा, देखें वीडियो

जॉन हेसिंग की निष्ठा और समर्पण

किसी भी पर्यटक के लिए आगरा शहर को जानना कौतूहल से भरा होता है। Jagran Hitech टीम का कौतूहल तब शांत हुआ जब कलीम और धाकड़ TVS Radeon के साथ उनके सफर की शुरुआत हुई। टीम को अपने पहले पड़ाव में जॉन हेसिंग के मकबरे को जानने का मौका मिला। इसे जॉन की पत्नी ऐनी ने उनके लिए बनवाया था, इसकी सादगी इसकी पहचान है। जॉन हेसिंग एक डच यात्री से सेना अधिकारी बने थे, जिन्होंने 19वीं शताब्दी के अंत में आगरा में सिंधिया मराठों की सेवा की थी। उनकी निष्ठा और समर्पण को देखकर ही उन्हें 1799 में आगरा किले की कमान सौंपी गई थी। इसके बाद टीम आगरा के मिनारो, मकबरों और चर्च को जानने के लिए निकल पड़ी।

कोकामल मार्केट में मसालों का व्यापार

आगरा की जीवनशैली उस जगह के इतिहास के बारे में बताती है। TVS Radeon के साथ आगरा की तंग गलियों से होते हुए टीम पहुंची रावत पाड़ा के कोकामल मार्केट, जो मसालों के कारोबार के लिए जाना जाता है। मसाले के इस बाजार को देखकर आप जान पाएंगे कि मुगल काल में किस तरह से मसालों का व्यापार होता था। इस दौरान कोकामल मार्केट के जर्जर हवेलियों और दरवाजों में आगरा का अनोखा इतिहास देखने को मिला।

शाही रसोई से निकला पेठा

शहर का मिजाज समझना हो तो जायका समझना बहुत ही जरूरी है। इसी सोच के साथ टीम पुष्पक मिष्ठान भंडार पहुंची। यहां की लजीज और स्वादिष्ट कचौड़ी आपके आगरा सफर को यादगार बना देगी। आगरा की बात हो और पेठे की बात न हो यह कैसे हो सकता है। पेठा एक विशेष उत्तर भारतीय मिठाई है जो आगरा और मथुरा जैसे कुछ क्षेत्रों में विशेष रूप से प्रसिद्ध है। पेठा मूल रूप से 350 साल पुराना मिष्ठान है, जो मुगल बादशाह शाहजहां की शाही रसोई से निकला है। तब से इस मिठाई को लोकप्रियता मिल रही है। आज आगरे में सामान्य पेठे के अलावा पंक्षी पेठा, केसर पेठा, अंगूरी पेठा, संतरा पेठा, चॉकलेट पेठा और भी कई तरह के पेठे बनाए जाते हैं।

TVS Radeon की सवारी करके आया बहुत आनंद

आगरा शहर की समृद्ध विरासत और ताजमहल की खूबसूरती देश-विदेश के पर्यटकों को काफी आकर्षित करती है। इस शहर पर ताजमहल का प्रभाव साफ तौर पर देखा जा सकता है। वैसे Jagran Hitech का यह खूबसूरत सफर अधूरा होता अगर TVS Radeon उनके साथ न होता। क्योंकि इसके जरिए ही आगरा की संकरी गलियों तक टीम पहुंची और शहर को जाना। इस दौरान संगीतकार, सॉफ्टवेयर इंजीनियर और इतिहासकार कलीम को भी TVS Radeon की सवारी करके बहुत आनंद आया।

Note - यह आर्टिकल ब्रांड डेस्‍क द्वारा लिखा गया है।

Copyright © 2021 Jagran Prakashan Limited.
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept