नई दिल्ली, जेएनएन। The Spy: अक्सर होता है कि जासूस अपनी पहचान छुपा रखते हैं। ऐसा कम ही होता है, जब वह किसी दूसरे देश का चीफ डिफेंस एडवाइज़र बन जाए। कुछ ऐसी कहानी लेकर आई है नेटफ्लिकस की नई वेब सीरीज़ 'द स्पाई'। 9 सितम्बर को रिलीज़ होने के बाद से सोशल मीडिया में इसको लेकर काफी चर्चा हो रही है। 6 एपिसोड की यह सीरीज़ इज़राइली जासूस एली कोहेन के ऊपर आधारित है। एली को मोसाद (इजराइली खुफिया विभाग) का सबसे बहादुर जासूस माना जाता है।

कहा जाता है कि एली के ही दम पर इजराइल साल 1967 की मिडल ईस्ट वॉर में जीत दर्ज की थी। नेटफ्लिक्स की नई वेब सीरीज़ 'द स्पाई' 1960 के दशक में उभरी राजनीतिक परिस्थियों की कहानी है। जिसमें एक जासूस मुख्य रोल में है। 6 एपिसोड की इस सीरीज़ का एक एपिसोड लगभग 50 मिनट का है।

नेटफ्लिक्स और ओसीएस ने मिलकर बनाया
यह वेब सीरीज़ नेटेफ्लिक्स और फ्रांस की प्रोडक्शन कंपनी ओसीएस (OCS) ने मिलकर बनाया है। यह वास्तव में एक अंग्रेजी टीवी सीरीज़ है, जो फ्रांस में बनाई गई है। इसको डायरेक्ट किया है इज़राइली डायरेक्टर Gideon Raff ने। यह पूरी सीरीज़ किताब  L'espion qui venait d'Israël (English: The Spy Who Came From Israel) पर आधारित है।

कौन था एली कोहेन
एली कोहेन की जासूसी की कहानी बहुत फेमस है। मिस्र में जन्मे एली कोहन मोसाद ज्वॉइन करने के बाद पहले अर्जेंटीना गए। इसके बाद वह सीरिया पहुंचे। वहां उन्होंने धीरे-धीरे अपना रुतबा बढ़ाया। साल 1962 में जब वह सीरिया की राजधानी दमिश्क पहुंचे, तब उन्होंने सत्ता के गलियारों में पैठ बनाई। उनकी पहुंच का अंदाजा आप ऐसे लगा सकते हैं कि वह उस वक्त के राष्ट्रपति अमीन अल-हफ़ीज़ उन्हें डिप्टी डिफेंस मिनिस्टर बनाना चाहते थे। हालांकि, वे पकड़े गए और साल 1966 में दमिश्क में एक सार्वजनिक चौराहे पर फांसी दी गई। पकड़ जाने से पहले एली सीरिया के चीफ डिफेंस एडवाइज़र थे।

Photo Credit- Netflix

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप