अनुप्रिया वर्मा, मुंबई. सोनी टीवी के शो कौन बनेगा करोड़पति में इस साल सीजन की पहली करोड़पति विनर बिनिता जैन बन चुकी हैं. दो अक्तूबर को देशभर में यह एपिसोड प्रसारित भी हो चुका है. खास बात यह है कि उन्होंने सात करोड़ रुपये के लिए भी सही जवाब दिया था लेकिन इससे पहले ही उन्होंने क्वीट कर दिया था और सिर्फ एक करोड़ रूपये जीत सकीं.

बेटे के लिए क्लीनिक इंस्टीटयूट

जागरण डॉट कॉम से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि इसमें लक नहीं रहा मेरा. मेरा मानना है कि लक मैटर करता है. मुझे जब इस शो के लिए फोन आया था. तो आमतौर पर मैं हाथ में टयूशन पढ़ाते वक्त फोन नहीं रखती हूं लेकिन उस दिन मेरे हाथ में फोन था, तो वहां मैं मानती हूं कि मैं लकी रही. उन्होंने आगे कहा है कि मैं अपने बेटे के डेंटल क्लीनिक के सेटअप पर खर्च करना चाहूंगी और मेरी इच्छा है कि कुछ पैसे से मैं कोचिंग इंस्टीटयूट भी शुरू करूं. असम की रहने वाली बिनिता कहती हैं कि असम से मुंबई आते हुए मुझे सबसे बड़ा डर था कि मैं खेल के पहले चरण को भी पार कर पाऊंगी कि नहीं. लेकिन यहां आने पर जब आपके सामने अमिताभ बच्चन होते हैं तो आप नर्वस भी हो जाते हैं. लेकिन वह आपको बिल्कुल अपने परिवार के सदस्य की तरह नॉर्मल कर देते हैं.

एक दिन की नहीं, महीनों की तैयारी

बिनिता को कुकिंग का काफी शौक है. साथ ही वह खुद को फिट रखना पसंद करती हैं. उनका कहना है कि यहां आने से पहले उन्होंने लंबी तैयारी की है. ऐसा नहीं है कि कुछ महीनों में ये सब हुआ है. वह लगातार पढ़ती रहती थीं. उनके बच्चे उनकी तैयारियां करवाया करती थीं. हां, बिनिता को पुरानी चीजों का ज्ञान अच्छा था और इस बात से अमिताभ बच्चन भी हैरान थे. उन्होंने बताया कि इस बात की खुशी है कि अमिताभ बच्चन के साथ यहां तक पहुंची.

सिंगल पैरेंट, पति का अपहरण

अपनी जिंदगी की अहम कड़ी के बारे में बात करते हुए वह कहती हैं कि मेरे पति बिजनेस के सिलसिले में बाहर जाते रहते थे. एक दिन वह घर नहीं लौटे तो पता चला कि उनका अपहरण हुआ है और इसके बाद हालात से समझौता किया. चाह कर भी कुछ कर नहीं सकती थी. अपने बच्चों का ख्याल मुझे ही रखना था. बिनिता कहती हैं कि एक दौर आया, जब लगा कि मैं डिप्रेशन में चली जाऊंगी. वह कहती हैं कि मुझे यकीन है कि मेरे पति जहां भी होंगे खुश होंगे. बिनिता बताती हैं कि पढ़ाई करना उन्हें हमेशा से पसंद रहा, इसलिए टीचिंग को प्रोफेशन बनाया.

अंडर प्रीवलेज बच्चों के लिए कोचिंग

यह पूछे जाने पर कि क्या वह प्राइस मनी से कोई सोशल सर्विस करना चाहेंगी, बिनिता कहती हैं कि वह कभी सामाजिक मुद्दों में इंगेंज नहीं रही हैं, क्योंकि सिंगल पैरेंट होने के नाते मेरे बच्चों और मेरे खुद के ही प्रोफेशन के लिए चला जाता है. लेकिन ऐसा महसूस हो रहा है कि मेरे बच्चे भी आगे बढ़ रहे हैं तो मैं अंडर प्रीवलेंज बच्चों को कोचिंग प्रोवाइड करना चाहूंगी. असम की तरफ कम ध्यान गया है विकास का अपने राज्य में वह किस तरह का बदलाव लाना चाहती हैं. इस बारे में बिनिता कहती हैं कि असम काफी रिसोर्स है, लेकिन दुख है कि वहां अभी उतना डेवलपमेंट नहीं हुआ है. वह कहती हैं कि मैं जब भी बच्चों को देश की इकॉनॉमी वगैरह के बारे में, या राजनीति के बारे में पढ़ाती हूं तो जब भी अपने राज्य का जिक्र आता है. एजुकेशन के स्तर पर उन्हें लगता है कि असम को आगे बढ़ना बहुत जरूरी है. जो कि अब तक नहीं हो पाया है.

बचपन से करेंट अफेयर्स में माहिर

सक्सेस के टिप्स बिनिता अपने बचपन के दिनों को याद करके बताती हैं कि वह बचपन से ही जनरल नॉलेज में अच्छी थीं. वह कहती हैं कि मैं हमेशा जी के पढ़ा करती थीं. मैंने हालांकि कभी क्वीज कांप्टीशन नहीं जीता है. लेकिन मैं ट्राइ करती रहती थी. मैं जीता नहीं. लेकिन करेंट अफेयर्स से अपडेटेड रहती हूं. मुझमें क्योरिसिटी है. तो इस शो को सक्सेसफुली क्रॉस करने में काफी मदद करती है ये आदतें.

अमिताभ बच्चन के साथ सफर

अमिताभ बच्चन के बारे में बिनिता कहती हैं कि अमिताभ जिस तरह हॉट सीट पर एक कंटेस्टेंट को ट्रीट करते हैं. कैमरा ऑफ होने के बाद भी उनके साथ वैसा ही बिहेव होता है. वह हमेशा आपको स्पेशल फील कराते हैं. सहज कर देते हैं. इसलिए हॉट सीट पर बैठना आसान हो जाता है. मुझे अमिताभ बच्चन की सारी फिल्में हमेशा पसंद रही हैं. पीकू, पा मुझे ज्यादा पसंद हैं.

यह भी पढ़ें: Bigg Boss 12: जानिये इस बार के ‘खिलाड़ियों’ को मिला है कितना माल, किसे कम, किसे ज़्यादा

Posted By: Manoj Khadilkar