पराग छापेकर, मुंबई। सिनेमा का सबसे मुश्किल जोनर होता है थ्रिलर। दर्शकों को आखिरी तक बांधे रखना, आगे की कहानी पता पड़े बिना लगातार दर्शकों को उलझा के रखना, दर्शकों के अनुमान को सही साबित करते कर गलत कर देना यह एक निर्देशक के लिए सबसे मुश्किल काम होता है। इस के लिए चाहिए एकदम सधी हुई स्क्रिप्ट और क्राफ्ट पर महारथ। और इसीलिए इस हफ्ते आई फिल्म बाईपास रोड का जिक्र करना बनता है।

लीजेंडरी सिंगर मुकेश के पोते और नील नितिन मुकेश के छोटे भाई नमन नितिन मुकेश इस फिल्म से निर्देशकीय पारी की शुरुआत कर रहे हैं। और उन्होंने अपने डेब्यू लिए चुना है थ्रिलर। नील नितिन मुकेश की लिखी इस कहानी को नमन ने कुशलता से सुनहरे पर्दे पर उतारा है। एक कुशल निर्देशक की तरह वह सस्पेंस को लगातार बरकरार रखते हैं दर्शकों के बुद्धि चुनौती देने में सफल रहे हैं।

विशेष रूप से जिस तरह से उन्होंने क्लाइमैक्स को अंजाम दिया है व कल्पना से परे था। क्लाइमेक्स आपको चौंका देता है। अपने गुरु अब्बास मस्तान से थ्रिलर के गुण सीखने वाले मनन से आने वाले समय बेहतरीन फिल्मों की उम्मीद की जा सकती है। अभिनय की बात करें नील नितिन मुकेश का अब तक का सबसे बेहतरीन परफॉर्मेंस है। एक बिगड़ेल बिजनेसमैन और घर में एक बेटे के किरदार को उन्होंने बखूबी जिया है रजित कपूर शमा सिकंदर, गुल पनाग जैसे कलाकारों ने अपने अपने किरदारों को बखूबी अंजाम दिया है। 

सिनेमैटोग्राफी और एडिटिंग फिल्म को एक अलग मकान पर ले जाती है! प्रोडक्शन डिजाइनिंग बेहतरीन है। बैकग्राउंड म्यूजिक पर थोड़ा और काम किया जाता तो अच्छा होता। कुल मिलाकर यह कहे तो गलत नहीं होगा अगर आप थ्रिलर फिल्में पसंद करते हैं तो बाईपास रोड आपको निराश नहीं करेगी।  

कलाकार- नील नितिन मुकेश,अदा शर्मा,शमा सिकंदर,सुधांशु पांडे,गुल पनाग,रजत कपूर,मनीष चौधरी,ताहिर शब्बीर 

निर्देशक- नमन नितिन मुकेश 

निर्माता- मदन पालीवाल, नील नितिन मुकेश 

वर्डिक्ट- *** (तीन स्टार)

Posted By: Vineet Sharan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप