अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। इस वर्ष कामयाब फिल्मों की फेहरिस्त और अवार्ड्स की बात करें तो लगभग वैसी ही फिल्में कामयाब रही हैं,जिसमें कुछ अलग हट कर कंटेंट रहा हो, फिर वह स्त्री हो या फिर बधाई हो. कहा जा सकता है कि बॉलीवुड अरसे बाद कंटेंट बनाने और अच्छी राइटिंग की तरफ वापस मुड़ता हुआ दिख रहा है. डिजिटल वर्ल्ड ने भी इसमें काफी तब्दीली कर दी है. अब लेखन को तवज्जो दिया जाने लगा है. ऐसी फिल्मों के जिक्र में अक्तूबर, बधाई हो जैसी फिल्में और सिक्रेड गेम्स जैसी सीरिज का खूब बोलबाला हो रहा है और ये कंटेंट प्रोड्यूसर नहीं, लेखक बना रहे हैं.

ऐसे में स्मॉल टाउन से निकली कहानियों के दौर ने एक बार फिर से रिटर्न टिकट लिया है और फिर से ऐसी कहानियों ने बड़े परदे पर धाक जमानी शुरू कर दी है. कुछ ऐसी ही कहानी आने वाली फिल्म जबरिया जोड़ी की भी है, जिसमें सिद्धार्थ मल्होत्रा और परिणीति चोपड़ा अभिनय कर रही हैं. जागरण डॉट कॉम ने ही आपको सबसे पहले बताया था कि फिल्म में परिणीति मुख्य किरदार निभाने जा रही हैं. ऐसे में जागरण डॉट कॉम ने फिल्म के लेखक संजीव के झा से बातचीत की. संजीव के झा ने इस बारे में बताया कि यह फिल्म बिहार में होने वाली पकडुआ शादी के बैकड्रॉप पर एक रोमांटिक-कॉमडी बताई जा रही है. ऐसी जबरदस्ती कराई जाने वाली शादियों में ना सिर्फ़ गोली-बंदूक का इस्तेमाल होता है बल्कि दूल्हे को मारने-पीटने तक की नौबत आ जाती है.

संजीव बताते हैं कि मैंने वहीं लिखा है, जो देखा है. ऐसी शादियां देखी हैं, ऐसे लोगों को जानता हूं और फिर कुछ मेरे अपने जीवन की बातें थीं, जो कहानी में आ गई. यह एक लव स्टोरी है. यह पूछे जाने पर कि हाल ही में ऐसी खबर आयी थी कि जबरदस्ती लड़के को उठा लिया गया है और उसकी शादी करा दी गई है, फिर कोर्ट केस और बहुत सारा विवाद हुआ तो क्या आज भी ऐसी शादियां हो रही हैं. संजीव कहते हैं कि बिल्कुल हो रही है. जब मैंने यह कहानी सुनानी शुरू की थी, तब मुंबई में तो कोई यकीन ही नहीं करता था. उन्हें यह सब पुराने ज़माने की बीती हुई बात लगती थी. फिल्म मैंने क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो से जो डाटा निकलवाया, उसने मुझे भी चौंका दिया, मैंने देखा कि किसी किसी साल बिहार में फिरौती से ज्यादा किड्नैपिंग शादियों के लिए हुए हैं...! देखिए मैं फेक कहानी नहीं सुना सकता, अगर उसका लेना देगा हकीकत से ना हो, तो फसाने बहुत झूठे लगते हैं...! हां, थोड़ा मसाला मिलाना पड़ता है, पर वो भी मैं सच्ची घटनाओं से ढूँढ ही लेता हूँ... !

बताते चलें कि संजीव का बचपन बिहार में बीता. वे मोतिहारी के रहने वाले हैं. चंपारण से गहरा ताल्लुक है. बारहवीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद संजीव दिल्ली पहुंचे. वहां हिंदी लिटरेचर में ग्रेजुएशन करने बाद कविता, कहानी लिखते हुए उन्होंने माया नगरी का रुख किया। शुरुआती दौर में विकास गुप्ता के शो- 'प्यार तूने क्या किया', 'कोड रेड', क्राइम पेट्रोल, गुमराह से स्टोरी-स्क्रिप्ट लिखने की शुरुआत की। बतौर फिल्मी लेखक यह उनकी पहली फिल्म होगी. वह कहते हैं कि कि वह एक आउटसाइडर हैं और जानते हैं कि यहां अपनी जगह बनाने के लिए कितना संघर्ष करना पड़ता है. लेकिन अब उन्हें खुशी है कि अंतत: उनकी फिल्म बन रही है. लेकिन फिल्म को बनते देखना सुकून देता है.

वह सिद्धार्थ और परिणीति के बारे में कहते हैं कि मैंने देखा सिद्धार्थ और परिणीति को इतनी शिद्दत से एक एक सीन पर ऐक्ट कर रहे थे. अपारशक्ति, संजय मिश्रा, नीरज सूद, जावेद जाफरी सभी ने कितना उम्दा अभिनय किया है. वह कहते हैं कि एक फिल्म हो सकता है कि आप साठ या सत्तर दिनों में शूट कर लें, उसे लिखने में लेखक अपने कई महीने और साल खर्च कर देता है. अपने आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में वह कहते हैं कि उन्होंने एक डिजिटल फिल्म लिखी है, जी5 के लिए,. यह एक बहुत ही बड़ा स्ट्रीमिंग प्लैट्फॉर्म है. ये सच्ची कहानी से इंस्पायर्ड एक थ्रिलर है. साथ ही वह कहते हैं कि दो बेव सिरीज पर काम लगभग खत्म है. यह दोनों भी बड़े प्लैट्फॉर्म पर इसी साल से दिखने लगेंगे. फिर अपने ही परिवार की कहानी लिखनी शुरू करूँगा, जो आजादी की लड़ाई में शामिल हुए मेरे ग्रांडफादर रमेशचंद्र झा की कहानी है. ये क्विट इंडिया मूव्मेंट के बैकड्रॉप पर एक बागी की कहानी है. हम क्या वैसी कहानियाँ लिखेंगे, जैसा जीवन में ग्रांडफादर ने जिया था. पान सिंह तोमर की तरह ही जब उनकी कहानी बाहर आएगी, तब हम शायद उनको जान पाएँ.

बता दें कि फिल्म जबरिया जोड़ी जल्द ही दर्शकों के सामने आयेगी. फिल्म का निर्देशन प्रशांत सिंह ने किया है जो कि आनंद एल राय के साथ अस्टिेंट रह चुके हैं. शैलेश सिंह और एकता कपूर के साथ इस फिल्म का निर्माण कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: TV TRP Online: The Kapil Sharma Show…धड़ाम, इस बार 'फन' का जलवा

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस