नई दिल्ली, जेएनएन। एनसीबी (नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो) इन दिनों कई वजहों से चर्चा में हैं। हाल ही में इस एजेंसी ने सुपरस्टार शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया है। 2 अक्टूबर को आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा सहित 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद उनके साथ केपी गोसाविक नाम के शख्स के साथ एक तस्वीर वायरल हुई थी।

यह तस्वीर सामने आने के बाद एनसीबी की शाख पर कई सवाल खड़े किए गए थे। हालांकि कुछ समय बाद एनसीबी ने सफाई देते हुए कहा कि आर्यन खान के साथ तस्वीर में नजर आ रहे केपी गोसाविक का एजेंसी से कोई लेना-देना नही है और न ही वह एनसीबी के कर्मचारी हैं। हालांकि अब पुणे पुलिस ने केपी गोसाविक को साल 2018 के एक धोखाधड़ी के मामले में लुकआउट सर्कुलर जारी किया है।

अंग्रेजी वेबसाइट मिड डे की खबर के अनुसार पुणे के पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता ने इस बात की जानकारी दी है। पुलिस आयुक्त ने कहा, 'हमने केपी गोसावी के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर नोटिस जारी किया है, जो 2018 में फरासखाना पुलिस स्टेशन में उनके खिलाफ दर्ज धोखाधड़ी के मामले में फरार है।' लुकआउट सर्कुलर एक नोटिस है जो किसी व्यक्ति को देश छोड़ने से रोकता है।

केपी गोसावी क्रूज शिप पर छापेमारी और ड्रग्स की कथित बरामदगी में नौ स्वतंत्र गवाहों में से एक है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेता शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान को इस महीने की शुरुआत में गिरफ्तार किया गया था। पुणे पुलिस के अनुसार, केपी गोसावी पर मलेशिया में नौकरी की पेशकश के बहाने पुणे के एक व्यक्ति को कथित रूप से ठगने का मामला दर्ज किया गया था।

केपी गोसावी की ओर से कथित तौर पर 3.09 लाख रुपये की ठगी करने वाले चिन्मय देशमुख ने उसके खिलाफ साल 2018 में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में कहा गया है कि देशमुख ने गोसावी से संपर्क किया था, जिन्होंने मलेशिया में होटल उद्योग में कुछ रिक्तियों के बारे में सोशल मीडिया पर एक विज्ञापन डाला था। फरसखाना पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कहा, "मलेशिया में नौकरी का वादा करते हुए गोसावी ने उससे 3.09 लाख रुपये किश्तों में लिए। हालांकि, उसने न तो उसे नौकरी दी और न ही उसके पैसे वापस किए।' अब केपी गोसावी को पुलिस ने लुकआउट सर्कुलर जारी किया है।  

Edited By: Anand Kashyap