मुंबई। अलग-अलग कारणों से बॉलीवुड फ़िल्मों को बैन करता रहा पाकिस्तान इस बार अनुष्का शर्मा की 'परी' से डर गया है। पाकिस्तान हुक्मरानों की तरफ़ से फ़िल्म की रिलीज़ को प्रतिबंधित करने के पीछे जो दलील दी है, वो जानकर आप हैरान रह जाएंगे। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान में 'परी' को बैन करने के पीछे जो वजह बतायी गयी है, उसके मुताबिक़ ये फ़िल्म काले जादू, ग़ैर-इस्लामिक मूल्यों और मुस्लिम विरोधी भावनाओं का समर्थन करती है। वहीं, पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने भी परी पर प्रतिबंध लगा दिया है। एक सिनेमा मालिक़ के हवाले से बताया गया है कि कि फ़िल्म में कथित तौर पर कुछ दृश्यों में क़ुरान की आयतों का इस्तेमाल किया गया है, जिस पर वहां की अथॉरिटीज़ को एतराज़ है। समाचार एजेंसियों के मुताबिक पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड के मुखिया मोबाशिर हसन का कहना है कि केंद्रीय फ़िल्म प्रमाणन बोर्ड के रिव्यू के बाद एक पैनल ने फ़िल्म देखी और इसे सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए अनुचित पाया। फ़िल्म सेंसर बोर्ड द्वारा बनाये गये कई नियमों और आचार संहिता का पालन नहीं करती। साथ ही कई संवाद और दृश्य धार्मिक, सामाजिक और नैतिक मूल्यों के ख़िलाफ़ हैं। 

पाकिस्तान की इस दलील पर 'परी' की को-प्रोड्यूसर प्रेरणा अरोरा का कहना है कि बुराई का कोई मज़हब नहीं होता। प्रेरणा ने समाचार एजेंसी से बात करके हुए कहा कि पाकिस्तान सेंसर बोर्ड मनमर्ज़ी से फ़ैसले कर रहा है। इस बात को समझाना मुश्किल है कि वो 'परी' को इस्लाम के ख़िलाफ़ कैसे मानते हैं। बुराई, जोकि फ़िल्म में दिखायी गयी है, का कोई मज़हब नहीं होता। एक ज़िम्मेदार प्रोडक्शन हाउस होने के नाते हम इस किसी भी समुदाय को चोट पहुंचाने के सख्त ख़िलाफ़ हैं। इससे पहले हमारे प्रोडक्शन की पैडमैन पाकिस्तान में ग़ैर-इस्लामिक होने के आरोप में बैन कर दी गयी थी। अब 'परी' भी इस्लाम के विरुद्ध हो गयी। कृपा करके क्या वो बताएंगे कि आख़िरी एंटी-इस्लामिक की परिभाषा क्या है?

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड फ़िल्मों पर पाकिस्तान का बैन अटैक, प्रतिबंध लगाने के नापाक बहाने

प्रेरणा आगे कहती हैं, ''मुझे पक्का यक़ीन है कि हमारी अगली फ़िल्म 'परमाणु- द स्टोरी ऑफ़ पोखरण' भी इस्लाम-विरुद्ध करार दे दी जाएगी।'' परमाण- द स्टोरी ऑफ़ पोखरण को प्रेरणा अरोरा की कंपनी क्रिअर्ज एंटरटेनमेंट के साथ जॉन अब्राहम ने को-प्रोड्यूस किया है। इसकी कहानी 1998 में पोखरण में हुए नाभिकीय परीक्षण पर आधारित है। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप