नई दिल्ली, जेएनएन। अगर आपने अल्लू अर्जुन की पुष्पा- द राइज देख ली है और अब उनकी फिल्म अला वैकुंठपुरमुलू के हिंदी में रिलीज होने का इंतजार बेसब्री से कर रहे हैं, मगर शीर्षक को समझने में दिक्कत हो रही है तो आपकी यह दिक्कत मेकर्स ने समझ ली है और फिल्म के टाइटल का पूरा मतलब समझाया है। 

अल्लू अर्जुन की फिल्म अला वैकुंठपुरमुलू को गणतंत्र दिवस पर हिंदी में रिलीज करने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। मेकर्स इस बात को पक्का करने में जुटे हैं, कहीं कोई कसर ना रह जाए। पुष्पा- द राइज शीर्षक तो हिंदी दर्शकों के बीच बड़ी आसानी से लोकप्रिय हो गया, मगर अला वैकुंठपुरमुलू टाइटल को समझने में थोड़ा दिक्कत हो सकती है।

मेकर्स ने इस बात को समझते हुए इस फिल्म के टाइटल का मतलब बताया है, ताकि फिल्म से अधिक से अधिक दर्शकों का जुड़ाव हो सके। फिल्म निर्माण कम्पनी गोल्डमाइंस टेलीफिल्म्स ने अपने ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी साझा की है- Ala Vaikunthapurramuloo का मतलब क्या है? अला वैकुंठपुरमुलू पोथन की मशहूर पौराणिक कहानी गजेंद्र मोक्षणम की सुप्रसिद्ध पंक्ति है। भगवान विष्णु हाथियों के राजा गजेंद्र को मकरम (मगरमच्छ) से बचाने नीचे आते हैं। इसी तरह फिल्म में, रामचंद्र के घर का नाम वैकुंठपुरम है, जहां बंटू (अल्लू अर्जुन) परिवार को बचाने आता है। अला वैकुंठपुरमुलू की यही खूबी है। 

अला वैकुंठपुरमुलू 26 जनवरी को हिंदी में सिनेमाघरों में बड़े पैमाने पर रिलीज की जा रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म 2000 स्क्रींस पर उतरेगी। अल्लू की यह फिल्म एक टेस्ट केस की तरह है। अगर हिंदी वर्जन ने अच्छा कारोबार किया तो फिर इसके बाद और भी दक्षिण भारतीय फिल्मों को हिंदी में रिलीज किया जा सकता है।  बुधवार को इसका टीजर रिलीज कर दिया गया और गुरुवार 20 जनवरी को हिंदी ट्रेलर रिलीज किया जा रहा है। 

अला वैकुंठपुरमुलू 2020 में 12 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। फिल्म ने बॉक्स ऑफिस बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए लगभग 160 करोड़ रुपये का नेट कलेक्शन किया था। इस फिल्म का निर्देशन त्रिविक्रम श्रीनिवास ने किया था और फिल्म में पूजा हेगड़े ने फीमेल लीड रोल निभाया था। वहीं, तब्बू और मुरली शर्मा अहम भूमिकाओं में नजर आए थे। इस फिल्म का निर्माण अल्लू अर्जुन के पिता अल्लू अरविंद ने किया था, जो तेलुगु सिनेमा के दिग्गज फिल्म निर्माता हैं।

Edited By: Manoj Vashisth