मुंबई। फ़िल्मों के ज़रिए सामाजिक मुद्दों को कैसे सड़क तक और फिर लोगों के घरों तक ले जाया जाए, इसकी कला अक्षय कुमार से सीखनी चाहिए। अक्षय की फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा घरों में टॉयलेट ना होने पर महिलाओं की दयनीय स्थिति के गंभीर विषय पर आधारित है। लिहाज़ा उन्होंने मध्य प्रदेश में टॉयलेट निर्माण की शुरुआत ख़ुद गड्ढा खोदकर की है। 

अक्षय इस वक़्त मध्य प्रदेश के खरगोन ज़िले के माहेश्वर क़स्बे में अपनी फ़िल्म पैडमैन की शूटिंग कर रहे हैं। यहीं कहीं अक्षय ने मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री नरेंद्र सिंह की मौजूदगी में टू पिट टॉयलेट की नींव डाली। अक्षय का ये क़दम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को बढ़ावा देने के लिए है, ताकि अधिक से अधिक लोग स्वच्छता के लिए जागरूक हों। 

ये भी पढ़ें: कपिल शर्मा के दोस्त चंदन प्रभाकर को मिली ऐसी ख़ुशख़बरी कि झूम उठे

कुछ दिन पहले अक्षय ने एक वीडियो मैसेज भी जारी किया था, जिसमें टॉयलेट्स ना होने की वजह से औरतों को आने वाली दिक्कतों के बारे में बताया था। उस वीडियो मैसेज में अक्षय ने लोगों से ज़रूरतमंदों के लिए टॉयलेट्स बनवाने की भी अपील की थी। अक्षय ने उस वीडियो में ये भी कहा था कि लोग भले ही इसे टॉयलेट एक प्रेम कथा का प्रमोशन समझें, लेकिन इससे उन पर कोई फ़र्क नहीं पड़ता क्योंकि ये फ़िल्म एक बड़ अभियान को प्रमोट करने के लिए बनाई गई है। टॉयलेट एक प्रेम कथा 11 अगस्त को रिलीज़ हो रही है, जिसमें उनके साथ भूमि पेडनेकर हैं। 

ये भी पढ़ें: नई डेट के साथ अक्षय कुमार की इस फ़िल्म का नया पोस्टर जारी

Posted By: मनोज वशिष्ठ

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप