मुंबई। बॉलीवुड फ़िल्में म्यूज़िक और डांस के लिए दुनियाभर में मशहूर हैं। फ़िल्मों की कामयाबी में भी गाने और संगीत अहम भूमिका निभाते हैं। इसलिए बॉलीवुड में गानों की शूटिंग पर ख़ूब ध्यान दिया जाता है। कई बार तो करोड़ों का बजट सिर्फ़ चंद मिनटों के एक गाने को भव्य बनाने में खर्च कर दिया जाता है।

विपुल अमृतलाल शाह की निर्माणाधीन फ़िल्म 'नमस्ते इंग्लैंड' में एक ऐसा ही गाना है, जिसका बजट सुनकर आपका मुंह खुला रह जाएगा। इतने बजट में एक छोटी फ़िल्म आसानी से बन सकती है। इस गाने का शीर्षक 'तू मेरी मैं तेरा' है, जिसे जावेद अख़्तर ने लिखा है। यह एक ट्रैवल गीत है, जो अर्जुन और परिणीति की फ़िल्म में यात्रा को दर्शाएगा। ये दोनों किरदार फ़िल्म में पंजाब से लंदन तक की यात्रा करेंगे। गाने की शूटिंग डेढ़ दर्ज़न से अधिक लोकेशंस पर की गयी है। कुछ हिस्सा समंदर के बीचोंबीच भी शूट किया गया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस गाने का बजट 5.5 करोड़ रुपए रखा गया है। इस बारे में विपुल का कहना है कि यह उनके करियर का सबसे महंगा गाना है। गाने के लिए अभी सिंगर फाइनल नहीं किया गया है। यह तो रही 'नमस्ते इंग्लैंड' के सबसे महंगे गाने की बात, चलिए अब आपको बॉलीवुड के कुछ और ऐसे गानों के बारे में बताते हैं, जिन्हें करोड़ों खर्च करके बनाया गया।

Party All Night (बॉस)

पिछले कुछ सालों में 'बॉस' के 'पार्टी ऑल नाइट' गाने को सबसे महंगा गाना माना जाता है, जिसे फ़िल्माने में 6 करोड़ रुपए खर्च किये गये थे। बैंकॉक के एक क्लब में शूट किये गये इस गाने में 600 विदेशी मॉडल्स ने भाग लिया था। गाने को यो यो हनी सिंह ने आवाज़ दी थी। अक्षय कुमार और सोनाक्षी सिन्हा गाने में थिरकते दिखे थे। बॉस फ्लॉप रही, मगर यह गाना पार्टी एंथम बन गया।

मलंग (धूम 3)

 

'धूम 3' का 'मलंग' गाना तो आपको याद होगा। हवा में एरोबिक्स टाइप का डांस करते आमिर ख़ान और कटरीना कैफ़। इस गाने में दोनों कलाकारों ने अपने जिमनास्ट स्किल्स का मुज़ाहिरा किया था। इस गाने को शूट करने के लिए अमेरिका से क़रीब 200 जिमनास्टों को बुलाया गया था। लगभग 20 दिनों तक कड़े अभ्यास के बाद गाना शूट हुआ था, जिसके लिए प्रोड्यूसर्स को 5 करोड़ रुपए ढीले करने पड़े।

ठा करके (गोलमाल 2)

बॉलीवुड में मज़ाक में कहा जाता है कि रोहित शेट्टी की फ़िल्मों के बजट का बड़ा हिस्सा कारों पर खर्च होता है क्योंकि इनमें कारें हवा में उड़ाई जाती हैं। मगर, रोहित गानों पर भी खर्चा करते हैं। 'गोलमाल 2' के गाने 'ठा करके' को तैयार करने में 3 करोड़ खर्च किये गये थे। इस गाने में 10 लग्ज़री कारें, 180 फाइटर्स और 1000 बैकग्राउंड डांसर्स का इस्तेमाल किया गया था। गाने की शूटिंग 12 दिन चली थी।

अब रणबीर सिंह रोहित निर्देशित अपनी अगली फ़िल्म 'सिम्बा' के लिए एक बड़ा गाना शूट किया रहे हैं, जिसकी जानकारी उन्होंने ट्विटर के ज़रिए दी थी। गाने की शूटिंग हैदराबाद के रामोजी राव स्टूडियों में की गयी है और इसे गणेश आचार्य ने कोरियोग्राफ किया है। वीडियो में रणवीर बता रहे हैं कि यह उनके करियर का सबसे बड़ा गाना है, वहीं रोहित शेट्टी मज़ाक में ताना देते हैं कि उन्होंने रणवीर पर बहुत ख़र्चा किया है।

सेटरडे सेटरडे (हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया)

'हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया' का 'सेटरडे सेटरडे' गाना भी बॉलीवुड के सबसे महंगे गानों में शामिल है। वरुण धवन और आलिया भट्ट पर फ़िल्माये गये इस गाने पर क़रीब 3 करोड़ रुपये खर्च किये गये थे। बादशाह और इनदीप बख्शी ने गाने को आवाज़ दी थी।

राधा नाचेगी (तेवर)

बोनी कपूर और संजय कपूर के प्रोडक्शन में बनी 'तेवर' में अर्जुन कपूर और सोनाक्षी सिन्हा ने मुख्य किरदार निभाये थे। इसके 'राधा नाचेगी' गाने पर 2.5 करोड़ रुपये खर्च किये गये थे। सुनने में आया था कि गाने में सोनाक्षी ने जो लहंगा पहना, सिर्फ़ उस पर 75 लाख रुपए खर्च हुए थे।

पिया के बाज़ार में (हमशकल्स)

'हमशकल्स' भले ही बॉक्स ऑफ़िस पर फ्लॉप रही, मगर इसके गाना 'पिया के बाज़ार में' गाने पर 2 करोड़ खर्च किये गये थे। गाना बिपाशा बसु, तमन्ना, ईशा गुप्ता, सैफ़ अली ख़ान, रितेश देशमुख और राम कपूर पर फिल्माया गया था। दर्ज़नों की तादाद में बैकग्राउंड डांसर्स भी इनके साथ थिरकते हुए नज़र आये थे।

गानों में 'मुग़ले-आज़म' ये गाना

 

अगर महंगे गानों की बात करें तो 'मुग़ले-आज़म' के 'प्यार किया तो डरना क्या' गाने का मुक़ाबला शायद ही कोई गाना कर सके। 5 अगस्त 1960 को रिलीज़ हुई के आसिफ़ की इस मैग्नम ओपस को बनाने में उस वक़्त 1-1.5 करोड़ रुपये खर्च हुए थे, जबकि इस गाने को फ़िल्माने में ही क़रीब 15 लाख रुपये खर्च कर दिये गये थे, यानि फ़िल्म के कुल बजट का लगभग 10 फीसदी सिर्फ़ इस गाने पर खर्च किया गया था। अगर मौजूदा समय में रुपये के मूल्य को समायोजित करके इस रकम को देखें तो जब प्यार किया तो डरना क्या गाने को फ़िल्माने में 6 करोड़ से अधिक खर्च होंगे।

भंसाली के गानों की भव्यता

आज के दौर में गानों को भव्य बनाने में संजय लीला भंसाली का कोई जोड़ नहीं है। 'देवदास' से लेकर 'पद्मावत' तक, भंसाली की फ़िल्मों का अहम हिस्सा गाने रहे हैं। 'देवदास' के 'डोला रे डोला' गाने को पिक्चराइज़ करने में ही 2.5 करोड़ रुपये खर्च किये गये थे। कुछ ऐसी ही रकम 'पद्मावत' के 'घूमर' और 'बाजीराव मस्तानी' के 'दीवानी मस्तानी' गानों पर खर्च की गयी है। हालांकि सही-सही खुलासा नहीं किया गया।

Posted By: Manoj Vashisth