Move to Jagran APP

दांव पर ममता बनर्जी, बाबुल सुप्रियो और मुकुल रॉय जैसे दिग्‍गजों की साख, बंगाल से हैरान करनेवाले आंकड़े

पश्चिम बंगाल में इस बार सत्ताधारी दल तृणमूल और भाजपा के बीच मुख्य मुकाबला है। बंगाल विधानसभा चुनाव में कुल 2116 उम्मीदवारों का किस्मत का फैसला होना है। नंदीग्राम में ममता बनर्जी और सुवेंदु अधिकारी का मुकाबला है।

By TilakrajEdited By: Published: Sun, 02 May 2021 12:08 PM (IST)Updated: Sun, 02 May 2021 12:08 PM (IST)
कृष्णानगर उत्तर सीट से मुकुल रॉय आगे चल रहे हैं

नई दिल्‍ली, जेएनएन। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे आज आने वाले हैं। मतगणना जारी है, इस बीच मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी और भाजपा के बाबुल सुप्रियो जैसे कई दिग्‍गज नेता पीछे चल रहे हैं। हालांकि, अभी कुछ भी कह पाना जल्‍दबाजी होगी, लेकिन दिग्‍गज नेताओं को पिछड़ना काफी हैरान करने वाला है। इससे पश्चिम बंगाल की जनता के मूड का पता चलता है।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में इस बार सत्ताधारी दल तृणमूल और भाजपा के बीच मुख्य मुकाबला है। बंगाल विधानसभा चुनाव में कुल 2,116 उम्मीदवारों का किस्मत का फैसला होना है। नंदीग्राम में ममता बनर्जी और सुवेंदु अधिकारी का मुकाबला है। अभी तक की मतगणना के मुताबिक, सुवेंदु अधिकारी 4 हजार से ज्‍यादा वोटों से ममता बनर्जी से आगे चल रहे हैं। ममता कई राउंड से पीछे ही चल रही हैं। हालांकि, आंकड़े लगातार बदल रहे हैं।

इधर, टॉलीगंज में बाबुल सुप्रियो और अरुप विश्वास मैदान पर हैं। यहां से इस बार केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के चुनाव में उतरने की वजह से यह सीट हाई प्रोफाइल सीट बन गई। यहां से बाबुल सुप्रियो 10 हजार से ज्‍यादा वोटों से पीछे चल रहे हैं। बता दें कि 2016 में टीएमसी के अरूप विश्‍वास ने इस सीट से जीत हासिल की थी। उन्होंने सीपीएम के मधु सेन रॉय को 9,896 वोटों के अंतर से हराया था।

कृष्णानगर उत्तर सीट से मुकुल रॉय आगे चल रहे हैं। इसे राज्य की एक और हाई प्रोफाइल सीट कहा जा सकता है। चुनाव आयोग के मुताबिक, मुकुल रॉय लगभग 13 हजार वोट से आगे है। वहीं, टीएमसी उम्मीदवार कौशानी मुखर्जी 7 हजार 339 मतों के साथ उनके पीछे हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.