भोपाल। मध्य प्रदेश में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने मंगलवार रात को कवायद शुरू कर दी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने रात में ही सरकार बनाने का दावा पेश करते हुए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात का समय मांगते हुए पत्र भेज दिया है। हालांकि राज्‍यपाल भवन की ओर से कहा गया है कि चुनाव आयोग द्वारा स्थिति साफ होने पर ही इस बारे में विचार किया जाएगा।

वहीं, विधायक दल के नेता को चुनने के लिए बुधवार को शाम चार बजे बैठक बुलाई गई है, जिसमें कमलनाथ के अलावा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की दावेदारी भी होने के संकेत हैं। इसलिए बैठक में कांग्रेस की केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य एके एंटोनी पर्यवेक्षक के रूप में शामिल होंगे। वे बुधवार को सुबह भोपाल पहुंच रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक, विधानसभा चुनाव में मतगणना का रुझान आ रहा था कि रात दस बजे कमलनाथ ने एक पेज का पत्र राज्यपाल के लिए तैयार कराया। राजभवन में पत्र सौंपते हुए इसकी पावती ली गई, जिसमें पत्र सौंपने का समय भी उल्लेखित है। राजभवन में पत्र सौंपने के साथ ही ई-मेल और फैक्स से भी राज्यपाल तक उसे पहुंचाया गया।

कमलनाथ-सिंधिया में से कोई चुना जाएगा

सूत्रों के मुताबिक, विधायक दल की बैठक में नेता के लिए पार्टी में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के रूप में दावेदारी सामने आने के संकेत हैं। इनके समर्थकों द्वारा विधायक दल की बैठक में अपने नेता के नाम के प्रस्ताव पेश किए जाने की संभावना है। हालांकि कांग्रेस नेता इससे इनकार कर रहे हैं और सर्वसम्मति से विधायक दल के नेता का चुनाव होने की बात कही जा रही है।

दिग्विजय ने निरस्त किया दौरा

सूत्रों के अनुसार विधायक दल की बैठक में विधायकों के अलावा कुछ गैर विधायक भी रहेंगे, जिनमें सांसद सिंधिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व विवेक तन्खा शामिल हैं। दिग्विजय बुधवार को मुंबई जाने वाले थे, लेकिन उन्होंने विधायक दल की बैठक के कारण अपना दौरा स्थगित कर दिया है। वे भोपाल में ही रहेंगे।

Posted By: Hemant Upadhyay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप