पटना [जेएनएन]। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों (झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा व खगड़िया) में आज छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान शांतिपूर्ण रहा। इस दौरान सुपौल में दबंगों ने एक दंपती का सिर फोड़ दिया। कुछ जगहों पर प्रत्‍याशियों के समर्थक आपस में भिड़ गए। इसे लेकर पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। उधर, बारिश में वोट डालने पहुंचे एक वोटर की मौत आकाशीय बिजली की चपेट में आने से हो गई। हालांकि शांतिपूर्ण मतदान पर बिहार निर्वाचन आयोग ने संतोष जताया है। 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी एचआर श्रीनिवास ने बताया कि 2014 की तुलना में 2019 में करीब एक फीसद ज्यादा मतदान हुआ है। सर्वाधिक 35 लोगों की गिरफ्तारी खगडिय़ा लोकसभा क्षेत्र में हुईं। मतदान के दौरान कुल 76 शिकायतें प्राप्त हुई। इसमें अररिया और मधेपुरा से ज्यादा शिकायतें मिलीं। तत्काल शिकायतों का समाधान किया गया। 

मधुबनी के खुटौना में बैरंग वापस लौटे वोटर
मधुबनी के खुटौना बाजार स्थित चार मतदान केंद्रों पर मंगलवार को 600 से अधिक लोगों को मतदान से वंचित हो जाना पड़ा। यहां के मतदान से वंचित लोग पहले तो बीडीओ को स्थानीय आवास पर एकजुट हुए, बाद में उनके कार्यालय पर जाकर हंगामा किया। उसके बाद बीडीओ से कक्ष में मिल कर यह समस्या रखी। वार्ड चार  के मतदाता रामनारायण नायक उर्फ रामा नायक के अनुसार लोगों को कहा गया था कि जिनकी मतदान पर्चियां घरों तक नहीं भेजी गई है वे मतदान के दिन अपने-अपने मतदान केंद्र पर आकर सहायक बीएलओ से ले लें। उनके एवं अन्य मतदाताओं के अनुसार, मतदान केंद्रों पर जब वे वोट डालने पहुंचे तो बताया गया कि उनके नाम मतदाता सूची में नहीं है, जिस कारण वे मतदान नहीं कर सकते। मतदान से वंचित ऐसे लोगों में आधी संख्या महिला मतदाताओं की है। अंबेडकर नगर के अजा कोटि के ऐसे मतदाता वोटर आई कार्ड लेकर घूमते नजर आए। सभी का कहना था कि विगत लोकसभा एवं विधानसभा चुनावों में उन्होंने वोट डाले थे। वंचित मतदाताओं ने कर्मियों पर साजिश के तहत नाम मतदाता सूची से हटा देने का आरोप लगाया। इसे लेकर लोगों ने हंगामा किया। इस संबंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी सह प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी प्रभात कुमार दास ने कहा कि अगर यह चूक जानबूझ कर किया गया है तो जवाबदेह कर्मियों पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी। वैसे कुछ कर्मियों से बात करने पर कहा कि सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण ऐसा हुआ है। यह पूछने पर कि विगत जनवरी में मतदाता सूची प्रकाशित हुई और संबंधित बीएलओ को इसकी जवाबदेही दी गई थी तो ऐसा कैसे हुआ तो वे इसका जवाब नहीं दे सके।

खगड़िया के अलौली में हंगामा
बताया जाता है कि खगड़िया में बूथ संख्‍या 148 पर हंगामा हो गया था। पुलिस पर लोगों ने पिटाई करने का आरोप लगाया। इसे लेकर लोगों ने हंगामा किया। हालांकि, हंगामे को देखते हुए सुरक्षाबल काफी सतर्क हो गया था। फिर कड़ी सुरक्षा में मतदान कराया गया। मतदान में इस हंगामे का कोई असर नहीं पड़ा।   

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2019 Phase III Voting Bihar Live Updates: बिहार में दो बजे तक 40.57% हुई वोटिंग

सुपौल में दंपती का सिर फोड़ा
सुपौल के सिंहेश्वर बूथ संख्या 23 पर वोटर पति-पत्नी से मारपीट की घटना में जहां पति का सिर फट गया, वहीं पत्‍नी भी जख्मी हो गई। घायल दंपती के अनुसार, उन पर कुछ लोग अपनी पसंद के प्रत्‍याशी को वोट देने का दबाव डाल रहे थे। दंपती के अनुसार इससे इनकार करने पर उन्‍हें बुरी तरह पीटा गया तथा सिर फोड़ दिया गया। दोनों का इलाज सिंहेश्वर के प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में किया गया। 

अररिया में प्रत्‍याशियों के समर्थक भिड़े, लाठीचार्ज
अररिया के फारबिसगंज में बूथ संख्या 156 (राजकीय बुनियादी मध्य विद्यालय हरिपुर) पर प्रत्याशी समर्थकों के बीच भिड़ंत के कारण भगदड़ मच गई। स्थिति पर नियंत्रण के लिए सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज किया। अररिया के बूथ संख्या 152, 153 व 154 पर भी लाठीचार्ज हुआ। इसमें कई लोग घायल  हो गए। जोकीहाट विधानसभा के बूथ संख्या 214 उदा हाई स्कूल में पुलिस जवान की पिटाई से वोटर जख्‍मी हो गया।

ठनका की चपेट में आने से युवक की मौत
अररिया के फारबिसगंज स्थित पिपरा घाट बूथ संख्या 51 पर एक हादसा हो गया। बारिश के दौरान वहां वोट डालने आए व्यक्ति की मौत बिजली गिरने के कारण हो गई।  

चुनाव की विस्तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Amit Alok