जागरण संवाददाता, नई दिल्ली।  दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आप ने सभी 70 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया है। पार्टी ने इस बार नए चेहरों पर दांव खेला है और 15 विधायकों को टिकट नहीं दिया है। कांग्रेस और बसपा छोड़कर आए नौ नेताओं पर भी भरोसा जताया है। जाहिर है टिकट कटने से आप विधायकों में गुस्सा और असंतोष है।

इनमें से कुछ ने बागी तेवर अपना लिए हैं और दूसरे दलों से बातचीत कर रहे हैं। वहीं कुछ विधायकों ने फैसला स्वीकार करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पार्टी के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जताई है।

पार्टी का फैसला स्वीकार: विजेंद्र गर्ग

राजेंद्र नगर सीट से टिकट कटने के बाद विधायक विजेंद्र गर्ग ने कहा कि पार्टी का फैसला स्वीकार है। यहां से राघव चड्ढा को टिकट मिला है। वह बड़ा चेहरा हैं और पार्टी ने सोच समझकर ही यह फैसला किया होगा। मैं आगे भी लोगों के लिए काम करता रहूंगा।

कंमाडो सुरेंद्र ने खुद को बताया पार्टी का सिपाही

दिल्ली कैंट से विधायक कमांडो सुरेंद्र सिंह ने टिकट नहीं मिलने के बाद भी खुद को पार्टी का सिपाही बताया है। उन्होंने कहा कि वह इस बारे में मुख्यमंत्री से बुधवार सुबह मुलाकात करेंगे। उन्होंने यकीन जताया कि पार्टी इस फैसले पर दोबारा विचार करेगी।

पार्टी के फैसले के साथ हूंः अवतार सिंह कालका

अवतार सिंह कालका को इस बार कालकाजी सीट से टिकट नहीं मिला है। उन्होंने फैसला स्वीकार करते हुए कहा कि मैं केजरीवाल के साथ शुरू से जुड़ा हूं। पूरी मेहनत से क्षेत्र व पार्टी को आगे बढ़ाया है और आगे भी काम करता रहूंगा।

बागी हुए हजारी लाल, लड़ेंगे चुनाव

पटेल नगर के विधायक हजारी लाल टिकट नहीं मिलने के बाद बागी हो गए हैं। उन्होंने पार्टी पर टिकट बेचने का आरोप लगाते हुए इसी सीट पर ताल ठोंकने का एलान किया। हालांकि अभी यह नहीं बताया कि निर्दलीय ताल ठोंकेगे या किसी दूसरे दल के टिकट से। उन्होंने इस बार यहां से आप प्रत्याशी राजकुमार आनंद पर गंभीर आरोप भी लगाए।

एनडी शर्मा ने टिकट बेचने का आरोप लगाया

बदरपुर से विधायक एनडी शर्मा ने टिकट कटने के बाद पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री केजरीवाल व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया पर निशाना साधते हुए 21 करोड़ में टिकट बेचने का आरोप लगाया। शर्मा ने इस बार यहां से आप प्रत्याशी और कांग्रेस के पूर्व विधायक राम सिंह नेताजी को अपराधी व भू-माफिया बताते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ने का एलान भी किया है।

रामचंद्र ने कहा-पार्टी का ऋणी हूं

बवाना के विधायक रामचंद्र ने टिकट कटने के बाद कहा, ‘मैं पार्टी का ऋणी हूं, जिसने मुझ जैसे साधारण आदमी को विधायक बनाया। हालांकि इस बार जिसे प्रत्याशी बनाया गया है, क्षेत्र के लोग उन्हें स्वीकार नहीं करेंगे। क्षेत्र के कार्यकर्ता भी पार्टी के इस फैसले से खुश नहीं हैं।’ बसपा छोड़कर आए शाहबाद डेरी के पार्षद जय भगवान उपकार को यहां टिकट मिली है।

सुखवीर बोले-कुछ कमी रही होगी जो टिकट नहीं मिला

मुंडका से विधायक सुखवीर दलाल की जगह धर्मपाल लाकड़ा को टिकट मिला है। सुखवीर ने कहा कि मैं इस फैसले को स्वीकार करता हूं। मैंने पांच साल तक क्षेत्र में काम किया। मुंडका में सबसे अधिक 1200 करोड़ रुपये के विकास कार्य भी कराए। इसके बावजूद मेरे काम में कोई कमी रह गई होगी जो टिकट पार्टी ने टिकट नहीं दिया।

मैंने लोगों की भलाई के लिए अपना पैसा खर्च किया। पार्टी ने गलत व्यक्ति को टिकट दिया है। इससे पार्टी की छवि खराब होगी। - हाजी इशराक खान, विधायक, सीलमपुर

ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया गया है जो बार-बार पार्टी बदलता है और उसकी छवि भी ठीक नहीं है। ऐसा लग रहा है कि टिकट की खरीद-फरोख्त की गई है। - फतेह सिंह, विधायक गोकलपुर

आम आदमी पार्टी के मुखिया केजरीवाल और उप मुखिया मनीष सिसोदिया ने टिकट बेचने का काम किया है। पांच साल तक मैने पार्टी के लिए मेहनत की है। - मनोज कुमार, विधायक, कोंडली

आप का गठन जिस ईमानदारी के लिए हुआ था, पार्टी उसे भूल गई। उसे पैसे की भूख है। इसलिए ईमानदार लोगों को नहीं, पैसे वाले लोगों को टिकट दिए गए हैं। -राजू धिंगान, विधायक, त्रिलोकपुरी

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस