नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। फाइनल मतदाता सूची तैयार होने के बाद दिल्ली में मतदाताओं की संख्या 1.16 लाख और बढ़ गई है। गत छह जनवरी तक दिल्ली में 1.46 करोड़ मतदाता थे, लेकिन बुधवार को मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) कार्यालय ने बताया कि मतदाताओं की संख्या बढ़कर 1,48,08,573 हो गई है। यह संख्या 21 जनवरी यानी नामांकन की अंतिम तिथि तक और बढ़ सकती है।

कई लोगों ने दिया है वोटर कार्ड का आवेदन

सीईओ डॉ. रणबीर सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में कई लोगों ने वोटर कार्ड के लिए आवेदन दिया है। इनके आवेदन पर प्रक्रिया के तहत फील्ड वेरीफिकेशन चल रहा है। अब तक 18 से 19 वर्ष की आयु वाले मतदाताओं की संख्या 2,12,898 हो चुकी है। इन्हें पहली बार वोट डालने वाले मतदाता भी कहा जाता है। वहीं 80 वर्ष से अधिक आयु के मतदाताओं की बात करें तो उनकी संख्या 2,04,911 है।

आठ फरवरी को है मतदान

उन्होंने बताया कि 8 फरवरी को मतदान के लिए दिल्ली में 2,689 जगहों पर 13,750 पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे। पोलिंग बूथ की संख्या में मतदाताओं के आधार पर बढ़ोतरी भी की जा सकती है। पत्रकार वार्ता के दौरान सिंह ने बताया कि नए मतदाताओं के आवेदन पर काम चल रहा है। 21 जनवरी तक सभी आवेदन पूरे कर लिए जाएंगे।

सौ से अधिक उम्र के मतदाताओं की 743 थी

उन्होंने बताया कि लोकसभा चुनाव के समय दिल्ली में सौ साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग मतदाताओं की संख्या 743 थी। इनका फील्ड वेरीफिकेशन भी चल रहा है। अब तक 125 बुजुर्ग मतदाताओं की पहचान हो चुकी है। चुनाव कार्यालय की टीम घर-घर जाकर इनकी पहचान कर रही है।

बुजुर्ग मतदाताओं की तलाश में जुटा प्रशासन

डॉ. रणबीर सिंह ने बताया कि बुजुर्ग मतदाताओं की पहचान के लिए प्रशासन की टीमें घर-घर जाकर वेरीफिकेशन कर रही हैं। जल्द ही दिल्ली के सबसे बुजुर्ग मतदाता का नाम सार्वजनिक किया जाएगा। दरअसल, दिल्ली में सबसे बुजुर्ग मतदाता 111 वर्षीय बच्चन सिंह का दिसंबर में ही निधन हुआ है। लोकसभा चुनाव में बच्चन सिंह ने मतदान भी किया था।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस