मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। दिल्ली विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर भाजपा संगठन को चुस्त-दुरुस्त करने में लगी हुई है। साथ ही सोशल मीडिया के जरिये विरोधियों पर प्रहार तेज करने की तैयारी हो रही है। ट्विटर-फेसबुक पर तो अभियान चलेगा ही, वाट्सएप को भी चुनाव प्रचार का हथियार बनाया जाएगा। 

इसके लिए 25 हजार वाट्सएप ग्रुप बनाने की योजना है, जिसके जरिये अधिकांश परिवारों तक पार्टी सीधी पहुंच बनाएगी। इससे विरोधियों के दुष्प्रचार को जवाब देने के साथ ही अपनी बात लोगों तक पहुंचाने में मदद मिलेगी।

65 विधानसभा सीटों पर मिली थी बढ़त 

लोकसभा चुनाव में भाजपा को दिल्ली की 70 में से 65 विधानसभा सीटों पर बढ़त मिली थी। चार माह बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में भी इस प्रदर्शन को दोहराने का लक्ष्य रखा गया है। इसे ध्यान में रखकर कार्यकर्ताओं से सलाह लेकर चुनावी चक्रव्यूह की रचना की जा रही है।

केंद्रीय मंत्री और चुनाव प्रभारी प्रकाश जावडेकर जिला स्तरीय कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करके उनसे सुझाव ले रहे हैं। कार्यकर्ताओं से लोगों के बीच सक्रिय होने का आह्वान किया जा रहा है। साथ ही सोशल मीडिया पर चलने वाले अभियान की भी रणनीति बन रही है।

पार्टी के रणनीतिकारों का मानना है कि अब घर-घर में स्मार्ट फोन है और अधिकांश परिवारों में वाट्सएप का प्रयोग भी हो रहा है, इसलिए यह चुनाव प्रचार का मजबूत साधन बन सकता है। प्रदेश चुनाव प्रभारी ने भी सोशल मीडिया टीम को इस पर तुरंत काम शुरू करने को कहा है।

लोकसभा चुनाव में हुए दुष्प्रचार से सतर्क हैं नेता

भाजपा नेताओं का कहना है कि अबतक सिर्फ कार्यकर्ताओं के वाट्सएप ग्रुप बनाए जाते रहे हैं। इसके जरिये उन तक जरूरी संदेश पहुंचाने में मदद मिलती है। इस चुनाव में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ ही मतदाताओं को भी वाट्सएप ग्रुप से जोड़ेगी। इससे पार्टी की नीतियां उन तक आसानी से पहुंच सकेंगी।

लोकसभा चुनाव में दुष्प्रचार करके विरोधी पार्टियों ने भाजपा व इसके उम्मीदवारों की छवि बिगाड़ने की कोशिश की थी। विधानसभा चुनाव में भी वह ऐसा कर सकती हैं। इस साजिश को रोकने में वाट्सएप ग्रुप मददगार होंगे, क्योंकि इससे पार्टी मतदाता तक अपनी बात पहुंचा सकती हैं।

प्रदेश स्तरीय सोशल मीडिया टीम में होंगे 35 सदस्य

दिल्ली भाजपा में प्रदेश से लेकर जिला इकाई तक सोशल मीडिया टीम काम कर रही है। अब विधानसभा चुनाव को लेकर भी एक टीम तैयार की जाएगी। प्रदेश स्तरीय टीम में प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र से पांच-पांच लोगों को रखा जाएगा। इस तरह से सातों लोकसभा क्षेत्रों से कुल 35 लोगों की टीम प्रदेश में काम करेगी। वहीं, जिला स्तरीय टीम में प्रत्येक मंडल से दो-दो लोग होंगे। दिल्ली में भाजपा के कुल 280 मंडल हैं।

 दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप