जेएनएन, पटना : नवादा जिले के अंतर्गत हिसुआ विधानसभा क्षेत्र में मतदान शुरू होते ही एक बड़ी खबर आई है। यहां फलमा गांव के बूथ संख्या 258 पर भाजपा के पोलिंग एजेंट कृष्ण कुमार सिंह की बूथ पर ही हार्ट अटैक से मौत हो गई। भाजपा प्रत्याशी अनिल कुमार सिंह इसी गांव के रहने वाले हैं। इस घटना के बाद गांव में अजीब माहौल है। भाजपा के नेता धीरे-धीरे इस गांव में पहुंच रहे हैं। मतदान आज शांतिपूर्ण तरीके संपन्‍न हो गया।

क्षेत्र परिचय

हिसुआ विधानसभा में हिसुआ, नरहट एवं अकबरपुर तीन प्रखंड हैं। सड़क, बिजली, पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं में सुधार हुआ है पर और विकास की दरकार है। इस सीट से आठ प्रत्याशी मैदान में हैं। वर्ष 2015 विस चुनाव में भाजपा के अनिल सिंह ने जेडीयू के कौशल यादव को पराजित किया था। पिछले साल 53.79 फीसद मतदान हुआ था।

विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव हिसुआ को अनुमंडल बनाने की मांग उठती रही है। चुनाव बीत जाने के बाद यह मुद्दा ठंडे बस्ते में चला जाता है। हालांकि, वर्तमान विधायक अनिल सिंह ने अनुमंडल बनाने की दिशा में प्रयास किया। 2011 में हिसुआ को अनुमंडल बनाने का मुद्दा विधानसभा में उठाया था। मुख्य सचिव ने तत्कालीन डीएम से हिसुआ को अनुमंडल बनाने के लिए खाका तैयार करने को कहा था। तत्कालीन डीएम देवेश सेहरा ने हिसुआ, नरहट, मेसकौर एवं नारदीगंज प्रखंड को मिलाकर हिसुआ को अनुमंडल बनाने की अनुशंसा कर सरकार को भेज दिया था। आज तक सरकार के स्तर से निर्णय नहीं हो सका।

मुद्दा एक

नक्सल प्रभावित गया जिला व नवादा जिले के सिरदला-मेसौकर की सीमा से सटे होने के कारण विधि व्यवस्था के दृष्टकोण से हिसुआ को अनुमंडल बनाने की जरूरत अर्से से महसूस की जा रही है। हिसुआ अनुमंडल बनने की पूरी अहर्ता रखता है।

मुद्दा दो

टीएस कॉलेज में स्नातकोत्तर की पढ़ाई कराने की मांग होती रही है। हिसुआ स्थित टीएस कॉलेज में करीब 13 हजार विद्यार्थी नामांकित हैं। ग्रामीण क्षेत्र में कॉलेज होने से यहां ज्यादातर गरीब परिवार के ही विद्यार्थी ही पढ़ रहे हैं।

मुद्दा तीन

 तिलैया जंक्शन पर स्थानीय विधायक के प्रयास से तत्कालीन रेल राज्यमंत्री ने मनोज कुमार ङ्क्षसहा ने यहां आरक्षण खिड़की तो दिया लेकिन पूर्णकालीक आरक्षण की व्यवस्था नहीं रहने से यात्रियों को परेशानी होती है। यहां से न तो तत्काल टिकट मिलता है और न बाहर के किसी स्टेशन से यहां आने का टिकट।

मुद्दा चार

अकबरपुर जिले का सबसे बड़ा प्रखंड है। इस प्रखंड में कुल 20 पंचायत है, लेकिन यहां डिग्री कॉलेज नहीं है। लड़के तो नवादा अथवा अन्य कॉलेजों में पढ़ाई के लिए चले जाते हैं, लेकिन लड़कियों को परेशानी होती है। ऐसे में महिला कॉलेज की मांग हो रही है।

मुद्दा पांच

मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत प्रत्येक पंचायत के प्रत्येक वार्ड के प्रत्येक घर में नल-जल लगना है। योजना के कार्यान्वयन में लापरवाही व शिथिलता की शिकायतें मिलती रहती हैं। सही कार्य नहीं होने से यह चुनावी मुद्दा अब भी बना है।

आठ प्रत्याशी मैदान में

भाजपा : अनिल सिंह

कांग्रेस : नीतू कुमारी

-बसपा : उत्तम कुमार चौधरी

-निर्दलीय : आजाद गीता प्रसाद शर्मा

-पीपीआइ : सुरेश पासवान

-राष्ट्रीय जनजन पार्टी : अनिल कुमार शर्मा

- निर्दलीय : गणेश राजवंशी

- शोषद : सुधीर कुमार

वर्ष 2015 विस चुनाव

जीत

भाजपा के अनिल सिंह

प्राप्त वोट 82493

हार

जेडीयू के कौशल यादव

प्राप्त वोट 70254

मतदान : 53.79 फीसद

वर्ष 2010 विस चुनाव

जीत

भाजपा के अनिल सिंह

प्राप्त वोट 43110

हार

एलजेपी के अनिल मेहता

प्राप्त वोट 39132

हार का अंतर 3978

मतदान : 45.91 फीसद

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस