गुवाहाटी, एजेंसियां। कांग्रेस ने असम विधानसभा चुनाव (Assam Legislative Assembly Elections) के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का गठन किया है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को इस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। कांग्रेस की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि पार्टी अध्यक्ष ने असम के आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पृथ्वीराज चव्हाण के नेतृत्व में तत्काल प्रभाव से स्क्रीनिंग कमेटी बनाई है। इस स्क्रीनिंग कमेटी में कमलेश्वर पटेल एवं दीपिका पांडे सदस्य होंगे।

सनद रहे कि चव्हाण कांग्रेस नेताओं के ग्रुप-23 का हिस्सा हैं जिसने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर संगठन में आमूल-चूल बदलाव एवं हर पद के लिए निर्वाचन की मांग की थी। कांग्रेस महासचिव की ओर से जारी आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि पार्टी अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने असम विधानसभा चुनाव के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का गठन किया है। 

समिति के अन्य पदेन सदस्यों में असम के पार्टी मामलों के प्रभारी कांग्रेस महासचिव जितेंद्र सिंह, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा, विधायक दल के नेता देबब्रत सैकिया, कांग्रेस सचिव अनिरूद्ध, पृथ्वीराज प्रभाकर साठे और विकास उपाध्याय शामिल हैं। यह कमेटी विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की छंटनी करके केंद्रीय चुनाव समिति के पास अपनी सिफारिशें भेजेगी। इन सिफारिशों पर केंद्रीय चुनाव समिति पार्टी उम्मीदवारों पर अंतिम फैसला करेगी। 

असम में 126 सदस्यीय विधानसभा के लिए तीन चरणों में वोटिंग होगी। निर्वाचन आयोग के मुताबिक पहला चरण 27 मार्च को, दूसरा एक अप्रैल और तीसरा छह अप्रैल को होगा। कांग्रेस इस पूर्वोत्तर राज्य में सत्ता में वापसी की उम्‍मीद कर रही है। साल 2016 में भाजपा के आने से पहले वह 15 वर्षों तक राज्य में सत्तारूढ़ थी।मालूम हो कि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा सोमवार से असम के दो दिवसीय दौरे पर हैं। गुवाहाटी के कामाख्या देवी के मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ ही उन्‍होंने चुनावी दौरे की शुरुआत की।

इससे पहले कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए 28 पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की। गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, बिहार और झारखंड जैसे राज्यों के कांग्रेस नेताओं को 294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल  विधानसभा के आठ चरणों में होने वाले चुनाव के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) ने कोलकाता के उत्तरी, दक्षिण, मध्य और बड़ा बाजार के लिए चार पर्यवेक्षकों की  नियुक्ति की है जबकि उत्तरी 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिलों के लिए दो-दो पर्यवेक्षक रखे गए हैं। बाकी सभी जिलों के लिए एक-एक पर्यवेक्षक होंगे।