नई दिल्ली [राहुल चौहान]। अनियमित जीवनशैली और खानपान की गलत आदतों की वजह से दुनियाभर में थायराइड की बीमारी के मामले बढ़ रहे हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ये बीमारी ज्यादा देखने में आ रही है। सफदरजंग अस्पताल में कम्युनिटी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष और निदेशक प्रो. डा. जुगल किशोर ने बताया कि हर साल 25 मई को विश्व थायराइड दिवस मनाया जाता है। इसका मकसद लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करना और इससे बचाव के तरीकों के बारे में जानकारी देना है।

अब 30 से 40 साल के उम्र में भी हो रहा रोग

थायराइड की बीमारी पहले अधिक उम्र के लोगों को होती थी, लेकिन अब 30 से 40 साल के लोगों को भी ये रोग हो रहा है। हालांकि, उनका कहना है कि 99 प्रतिशत मामलों का थायराइड का पूरी तरह इलाज संभव है। बस समय पर इसका पता चल जाए और इलाज शुरू हो जाए।

इस तरह जानेंं बीमारी

डा. जुगल किशोर ने बताया कि थायराइड एक तितली के आकार की छोटी ग्रंथि होती है, जो गर्दन के सामने स्थित होती है। थायरायड ग्रंथि हार्मोन बनाती है, जो पूरे शरीर में ऊर्जा के स्तर, मेटाबोलिज्म, बालों की वृद्धि, नींद आना, महिलाओं में पीरियड्स और अन्य कई चीजों को प्रभावित करती है। जब थायरायड ग्लैंड पर्याप्त मात्रा में थायराइड हार्मोन नहीं बनाता या जरूरत से ज्यादा हार्मोन रिलीज करता है तो इससे थायराइड की बीमारी की शुरुआत होती है। इससे मुख्य रूप से मरीज का शारीरिक और मानसिक विकास रूक जाता है।

महिलाओं को गर्भवती होने में होती है परेशानी

इसके साथ ही महिलाओं को थायराइड की बीमारी होने पर उन पर ज्यादा मोटापा आ जाता है। साथ ही उनके गर्भवती होने में भी समस्या होती है। अगर गर्भवती हो जाती हैं तो गर्भ में बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास पर भी थायराइड की बीमारी का असर पड़ता है। इसलिए इसकी अनदेखी नहीं की जानी चाहिए।

ये हैं थायराइड की बीमारी के लक्षण

थायराइड की बीमारी के लक्षणों में वजन बढ़ना, थकान बने रहना, शरीर में सूजन, जोड़ों में दर्द, बालों का झड़ना और वजन कम होना शामिल हैं। डा. ने बताया कि ये लक्षण धीरे-धीरे शरीर में आते हैं। अगर समय पर इलाज़ न किया जाए तो ये खतरनाक भी साबित हो सकते हैं। प्राकृतिक चिकित्सा के तरीकों को अपनाकर थायराइड की समस्या का इलाज हो सकता है।

थायराइड होने पर क्या करें क्या न करें

  • चीनी का सेवन कम करें
  • खाने में आयोडीन को शामिल करें
  • योग करें
  • विटामिन बी के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, बीज और साबुत अनाज खाएं

Edited By: Prateek Kumar