Move to Jagran APP

Reasi Terror Attack: बच्चे होने की मन्नत लेकर दिल्ली से मां वैष्णो देवी गया था कपल, पति को आतंकियों ने मारा

Reasi Terror Attack पूर्वी दिल्ली के मंडोली स्थित मिलन गार्डन में रहने वाले सौरव गुप्ता की दो वर्ष पहले मंडावली निवासी शिवानी से शादी हुई थी। बच्चे होने की मन्नत लेकर दंपती शुक्रवार रात को मां वैष्णो देवी के दरबार पहुंचे। माता की पूजा की। रात को जब आतंकी हमले की सूचना दिल्ली में परिवार को मिली तो वह दंग रह गए।

By SHUZAUDDIN SHUZAUDDIN Edited By: Abhishek Tiwari Published: Tue, 11 Jun 2024 10:12 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 10:56 AM (IST)
सौरव अपनी पत्नी शिवानी के साथ। सौजन्य -स्वजन

शुजाउद्दीन, पूर्वी दिल्ली। मंडोली स्थित मिलन गार्डन में रहने वाले सौरव गुप्ता की दो वर्ष पहले मंडावली निवासी शिवानी से शादी हुई थी। बच्चे होने की मन्नत लेकर दंपती शुक्रवार रात को मां वैष्णो देवी के दरबार पहुंचे।

माता की पूजा की। माता के दर्शन करके दंपती बहुत खुश थे। घरवालों की याद सताई तो दुकान से प्रीपेड नंबर खरीद लिया। माता के दर्शन के बाद दोनों शिवखोड़ी धाम दर्शन करने के लिए पहुंचे। रास्ते में शिवानी ने अपनी दादी सास मुन्नी देवी को वीडियो कॉल के जरिये बस में बैठे-बैठे जम्मू के पहाड़ों का नजारा दिखाया।

रविवार रात को कटरा से उनकी दिल्ली की ट्रेन थी। शनिवार शाम को दंपती बस से शिवखोड़ी धाम से दर्शन करके बस से रेलवे स्टेशन जा रहे थे। सौरव खिड़की की साइड वाली सीट पर बैठे थे, उनके बराबर में पत्नी बैठी थी। अचानक से सड़क पर बस रुकी और बाहर से सवारियों पर गोलियों की बौछार हो गई।

सौरव के सिर में लगी दो गोलियां

दो गोलियां सौरव के सिर में लगी और बस खाई में जा गिरी। रात को जब आतंकी हमले की सूचना दिल्ली में परिवार को मिली तो वह दंग रह गए। परिवार के पुरुषों ने घर की महिलाओं को सोमवार दोपहर तक आतंकी हमले में सौरव की मौत होने के बारे में नहीं बताया था।

सौरव के परिवार में पिता कुलदीप गुप्ता, गौरव गुप्ता व बहन भावना है। मां की मौत हो चुकी है। सौरव की गांधी नगर में कपड़े की दुकान थी। परिवार के सदस्य शनिवार रात को ही दिल्ली से जम्मू के लिए रवाना हो गए थे। शिवानी की तबीयत बेहतर बताई जा रही है। आतंकी हमले में युवक की मौत से परिवार के साथ ही क्षेत्र के लोग गमगीन हैं।

दादा बचा लो.. आतंकियों ने मेरे पति को गोलियां मार दी

बस के खाई में गिरने से शिवानी गंभीर रूप से घायल हो गईं थीं। घायल होकर वह बेहोश हो गईं। कुछ देर के बाद आंख खुली तो देखा बस में रोते बिलखते लोग मदद के लिए चिल्ला रहे थे। शिवानी ने किसी तरह से खुद को संभाला।

स्थानीय लोगों ने शिवानी और उनके पति को बस से बाहर निकाला। शिवानी के दादा ससुर सुभाष गुप्ता शनिवार को क्षेत्र के लोगों के साथ बस से खाटू श्याम मंदिर दर्शन के लिए गए हुए थे। वह मंदिर में दर्शन कर रहे थे। तभी उनके फोन पर शिवानी का फोन आया और उसने बस इतना कहा, दादा बचा लो, आतंकियों ने मेरे पति को गोलियां मार दी हैं।

इतना सुनते ही बुजुर्ग के पैर लड़खड़ा गए, उनके मुंह से इतना ही निकला बेटा घबराना नहीं। मैं हूं न, आ रहा हूं तेरे पास। सूचना मिलते ही बुजुर्ग ने दर्शन छोड़े। बुजुर्ग के एक पड़ोसी ने उन्हें 30 हजार रुपये के किराये की एक कार राजस्थान से जम्मू के लिए करवाकर दी।

श्रद्धालुओं की निर्मम हत्या करने वाले आतंकियों को सेना दे मुंहतोड़ जवाब

मृतक के चाचा अमित गुप्ता ने कहा कि उनका भतीजा व बहू बच्चे की मन्नत लेकर मां वैष्णाे देवी दर्शन के लिए गए थे। उनका कोई गुनाह नहीं था। वह तो दर्शन करके अपने घर लौट रहे थे। इस आतंकी हमले ने उनका घर का चिराग छीन लिया। उन्होंने सेना से मांग की आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दें।

उनके भतीजे की आत्मा को शांति तभी मिलेगी जब आतंकियों का सर्वनाश होगा। मृतक के पड़ोसी अशोक ने बताया कि मृतक की पत्नी शिवानी अस्पताल में भर्ती होने के कारण फोन नहीं उठा रही थी। घर के लोग परेशान थे। जम्मू पुलिस का किसी के पास नंबर नहीं था।

इंटरनेट से शिवखोड़ी धाम ट्रस्ट का नंबर निकाला। एक सदस्य ने मृतकों के सात फोटो वॉट्सऐप पर भेजे। उसमें सौरव नहीं था। रविवार सुबह उन्होंने तीन और फोटो भेजे, जिसमें से एक सौरव था। उत्तर पूर्वी जिले से भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज त्यागी ने रात को जम्मू कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा से बात की और सौरव व शिवानी के लिए मदद मांगी।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.