नई दिल्ली, [अरविंद कुमार द्विवेदी]। रिंग रोड की हरियाली व इसके सुंदरीकरण पर बीएमडब्ल्यू-मर्सिडीज जैसी लग्जरी कारों से आने वाले चोरों की नजर लग गई है। यहां एक तरफ पीडब्ल्यूडी निर्माण कार्य करवाता है, दूसरी ओर चोर एलईडी, लैंप हेड, स्विच बोर्ड से लेकर पौधे तक उखाड़ ले जाते हैं। इस कारण यहां के सब-वे से लेकर एफओबी व फुटपाथ तक बदहाल हैं। पुर्जे चोरी हो जाने के कारण एस्केलेटर बंद हो जाता है, पौधे चोरी हो जाने से हरियाली नदारद हो रही है।

वहीं, यहां स्थित अंडरपास से लोग एलईडी, लैंपहेड, स्विच बोर्ड से लेकर केबल तार तक निकाल ले जाते हैं जिससे यह बदहाल पड़ा है। गौरतलब है कि सुंदरीकरण परियोजना के तहत यहां पर साइकिल ट्रैक, सेल्फी प्वाइंट, आकर्षक चबूतरा आदि बनाया गया है। इसमें डिजाइनर लैंप, बेंच व हरियाली के लिए पौधे भी लगाए गए हैं।

मना करने पर स्टाफ से भिड़ जाते हैं

रिंग रोड से सरकारी सामान उड़ाने वाले चोर दो तरह के हैं। पहली कैटेगरी के गरीब चोर सब-वे से इलेक्ट्रिक आइटम जैसे एलईडी, बिजली की केबल, स्विच बोर्ड, लैंपहेड व लोह की ग्रिल आदि चुराकर ले जाते हैं और कबाड़ में बेच देते हैं। इनमें ज्यादातर शराबी व नशेड़ी होते हैं।

वहीं, दूसरी कैटेगरी के अमीर चोर हैं जो बीएमडब्ल्यू व मर्सिडीज जैसी लग्जरी कारों से आकर चोरी करते हैं। गार्ड या कोई स्टाफ उन्हें मना करता है तो ये लोग बहस भी करते हैं। हाल ही में बीएमडब्ल्यू कार से आई एक महिला ने फुटपाथ से पौधा उखाड़कर गाड़ी में रखा तो मौके पर मौजूद आर्किटेक्ट ने विरोध किया तो वह बहस करने लगी। पीडब्ल्यूडी के एक एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ने बताया कि विभाग की ओर से नेहरू नगर, पीजीडीएवी कालेज के सामने सुंदरीकरण किया जा रहा है। लेकिन सामान से लेकर पौधे तक चोरी हो जाने के कारण काफी परेशानी हो रही है।

गौरतलब है कि यहां पर प्लूमेरिया अल्बा, अमलतास, गुलमोहर, फिशटेल पाम, डेविल ट्री, रायल पाम आदि पौधे लगाए जाते हैं। ये पौधे नर्सरी में 300 से लेकर 500 रुपये तक मिलते हैं। इसलिए लोग इन पौधों को चुरा ले जाते हैं।

 

Edited By: Vinay Kumar Tiwari