नई दिल्ली, जेएनएन। Weather forecast in Delhi and NCR: दिल्ली और एनसीआर (National Capital Region) में पिछले कई दिनों से लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिली हुई है, वहीं सुबह-शाम तापमान भी कम रहता है। अगले दो तीन दिनों तक मौसम को ऐसे ही बने रहने की संभावना है।

34 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहेगा पारा

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) के पूर्वानुमान के मुताबिक, दिल्ली-NCR में अगले कुछ दिनों तक बादलों की आवाजाही जारी रहेगी और इसी के साथ हल्की बारिश का यह मौसम बना रहेगा। इस बीच धूप भी निकल सकती है, लेकिन अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहने का ही अनुमान है।

आसपास हो रही बारिश के चलते गिरा तापमान

मौसम विज्ञानियों की मानें तो हल्की बारिश से ही तापमान में गिरावट आई है, जिससे दिल्लीवासियों को उमस भरी गर्मी से खासी राहत मिली है। वहीं, स्काईमेट वेदर (Skymet weather) सप्ताह भर दिल्ली-NCR समेत पूरे उत्तर भारत में हल्की बारिश होती रहेगी। इसकी वजह मानसून का देरी से आना और फिर देरी से जाना है। यही वजह है कि मध्य भारत और पूर्वी भारत में बारिश होती रहेगी। पूर्वानुमान के मुताबिक, 2-4 अक्टूबर के बीच दिल्ली के साथ पंजाब, हरियाणा और उत्तरी राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश हो सकती है। 

इससे पहले मौसमी उतार चढ़ाव के बीच सोमवार को दिल्ली की फिजा में खासा बदलाव देखने को मिला।  सोमवार को सुबह से ही दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों में बादल छाए हुए थे। कई इलाकों में बरसात भी हुई। इससे अधिकतम तापमान में सामान्य से तीन डिग्री तक की गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस रहा, जो कि सामान्य से तीन डिग्री कम है। वहीं, न्यूनतम तापमान 23.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया, जो कि सामान्य से एक डिग्री ज्यादा है। हवा में नमी का स्तर 69 से 90 फीसद रहा।

इस बार मानसून में दिल्ली में 38 फीसद कम बरसे बदरा

दिल्ली में इस बार मानसून के दौरान 38 फीसद कम बारिश दर्ज की गई है, जो 2014 के बाद पांच सालों के दौरान सबसे कम है। मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में इस बार एक जून से 30 सितंबर 404.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई जबकि गत 30 वर्ष का औसत 648.9 मिलीमीटर है। इस तरह से इस वर्ष 38 फीसद कम बारिश हुई।

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में पिछले दो सालों के दौरान अधिक बारिश दर्ज की गई थी। 2018 में 770.6 मिलीमीटर और 2017 में 672.3 मिलीमीटर बारिश हुई थी। जबकि इस वर्ष जून में मात्र 11.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि इस माह की सामान्य बारिश 65.5 मिलीमीटर है। इस तरह से जून में 83 प्रतिशत कम बारिश दर्ज की गई। जुलाई में यहां 24 फीसद कम बारिश हुई क्योंकि मात्र 210.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

अगस्त में मात्र 119.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई, जो की अपेक्षाकृत कम ही है। जबकि इस माह की औसत बारिश 247.7 मिलीमीटर है। इस तरह यह 52 फीसद कम रही। सितंबर के दौरान दिल्ली में 74.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई जबकि सामान्य 125.1 मिलीमीटर है। इस माह यह 41 फीसद कम रही। बारिश कम होने के कारण इस बार उमस से भी लोग काफी दिनों तक परेशान रहे। अगर पर्याप्त मात्र में बारिश होती तो संभवत: उमस भरी गर्मी से लोग परेशान नहीं होते।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस