Move to Jagran APP

New Parliament Building: संसद भवन के उद्घाटन में खलल डाल सकती है खाप, सुरक्षा में मुस्तैद रहेगी दिल्ली पुलिस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार 28 मई को नवनिर्मित संसद भवन का उद्घाटन करेंगे। नए संसद भवन के उद्घाटन समारोह के लिए नए संसद भवन के आसपास दिल्ली पुलिस के करीब 70 पुलिसकर्मियों के स्टाफ को तैनात किया गया है।

By Jagran NewsEdited By: Nitin YadavPublished: Sat, 27 May 2023 11:42 AM (IST)Updated: Sat, 27 May 2023 11:42 AM (IST)
नए संसद भवन की सुरक्षा में मुस्तैद दिल्ली पुलिस

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार 28 मई को नवनिर्मित संसद भवन का उद्घाटन  करेंगे। नए संसद भवन के उद्घाटन कार्यक्रम में किसी भी प्रकार की खलल न हो इसके लिए दिल्ली पुलिस तैयारियां पूरी कर ली हैं। नए संसद भवन के उद्घाटन समारोह के लिए नए संसद भवन के आसपास दिल्ली पुलिस के करीब 70 पुलिसकर्मियों के स्टाफ को तैनात किया गया है।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक, नए संसद भवन के उद्घाटन समारोह के लिए संसद भवन के आसपास 24 घंटे सुरक्षा कर्मियों को तैनाती रहेगी। इसके लिए करीब दिल्ली पुलिस के 70 पुलिसकर्मियों के स्टाफ को तैनात किया गया है। एसीपी रैंक के अधिकारी CCTV से निगरानी कर रहे हैं।

बंद रहे दिल्ली के सभी रास्ते

वहीं, 28 मई को नई दिल्ली जिले के सभी रास्ते सुबह साढ़े पांच बजे से शाम तीन बजे तक आम लोगों के लिए बंद रहेंगे। केवल सार्वजनिक परिवहन, सिविल सेवा परीक्षा के उम्मीदवार, स्थानीय निवासी और आपातकालीन वाहनों को ही जाने दिया जाएगा, क्योंकि उद्घाटन वाले दिन जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर रहे पहलवानों के समर्थन में महिला खाप पंचायत करने की योजना बना रहे हैं। दिल्ली पुलिस की कोशिश होगी की महिला खाप पंचायत का आयोजन न हो, इसको लेकर अनुमति नहीं दी गई।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि नई दिल्ली जिले में 20 से ज्यादा कंपनी तैनात की जाएगी, जिसमें 10 से ज्यादा महिला कंपनी तैनात होंगी। इतना ही नहीं सूत्रों ने ये भी बताया कि संसद के पास के दो मेट्रो स्टेशन बंद रहेंगे, जिसके लिए दिल्ली मेट्रो को पत्र भी लिखा गया है।

बॉर्डर पर रहेगी खास नजर

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि महिला खाप पंचायत के समर्थन में उत्तर प्रदेश और हरियाणा से किसान दिल्ली में दाखिल होने की कोशिश करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, तकरीबन 90 खाप पंचायतें, जिसमें लोगों की संख्या 3000 के करीब है, वो दिल्ली में दाखिल हो सकते हैं। इसको लेकर अधिकारियों की एक हाई लेवल मीटिंग में तय किया गया है कि कोई भी दिल्ली में दाखिल न हो पाए। इसके लिए दिल्ली के सभी बॉर्डर पर बैरिकेडिंग की जाएगी और खास खाप के लोगों की हरकतों पर नजर रखी जाएगी।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.