नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार देश की राजधानी दिल्ली देश के सबसे प्रदूषित स्थलों वाले राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सूची में तीसरे स्थान पर है। देश में 112 स्थल ऐसे हैं जो विषैले और खतरनाक पदार्थों से प्रदूषित हैं। इसके अतिरिक्त 168 स्थल ऐसे हैं जो प्रदूषित हो सकते हैं, लेकिन इस संबंध में अभी जांच और पुष्टि किए जाने की जाने की आवश्यकता है।

सीपीसीबी की रिपोर्ट के अनुसार प्रदूषित राज्यों की सूची में ओडिशा सबसे ऊपर है, जहां 23 प्रदूषित स्थल हैं। इसके बाद उत्तर प्रदेश का स्थान है, जहां 21 प्रदूषित स्थल हैं। 11 प्रदूषित स्थलों के साथ दिल्ली तीसरे स्थान पर है। दिल्ली में प्रदूषित स्थलों में भलस्वा और गाजीपुर लैंडफिल के अलावा ङिालमिल, वजीरपुर, न्यू फ्रेंड्स कालोनी, दिलशाद गार्डन और लारेंस रोड औद्योगिक क्षेत्र शामिल हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में 12 ऐसे स्थल हैं, जिनके प्रदूषित होने की आशंका है।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार प्रदूषित स्थल ऐसे क्षेत्र होते हैं जहां मानव निर्मित विषैले और खतरनाक पदार्थ इतनी अधिक मात्र में हों जिनसे मानव के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को खतरा पैदा हो सकता हो। संभावित प्रदूषित स्थल ऐसे क्षेत्र हैं जहां कथित तौर पर विषैले पदार्थ हैं, लेकिन वैज्ञानिक तरीके से इसकी पुष्टि नहीं हुई है। पर्यावरणविदों के अनुसार इन स्थलों के प्रदूषित होने की एक अहम वजह ई कचरा भी है।

गर्मी दिखा रही है अपना रंग

वहीं, मौसमी उतार-चढ़ाव के बीच गर्मी मार्च की शुरुआत से ही काफी तेज हो रही है ऐसे ही रहा तो गर्मी आने वाले समय में अपने पुराने सारे रिकार्ड तोड़ देगी। शनिवार की बात की जाए तो राजधानी में अधिकतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 31.5 डिग्री सेल्सियस नापा गया था। वहीं, न्यूनतम तापमान की बात की जाए तो यह सामान्य से दो डिग्री अधिक 15.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि गर्मी अभी से ही ज्यादा है। हवा में नमी का स्तर 38 से 90 फीसद पर शनिवार को रहा।