नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल युवक के चेहरे और खोपड़ी की हड्डी में हुए 16 फ्रैक्चर को गंगाराम अस्पताल के 10 डॉक्टरों ने आठ घंटे की जटिल सर्जरी के बाद ठीक किया। इस हादसे में युवक की जीभ बीच से दो हिस्से में कट गई थी लेकिन अलग नहीं हुई थी। इसे भी जोड़ा गया है। तीन जनवरी को समीर नामक युवक की सर्जरी की थी गई थी। अब वह ठीक है।

बाइक चला रहा था दोस्त

डॉक्टरों ने बताया कि यह काफी जटिल आपरेशन था। हालांकि अब मरीज की हालत स्थिर है। वह तेजी से रिकवर कर रहा है। अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार, 31 दिसंबर की देर रात समीर बाइक से अपने दोस्त के साथ नोएडा से दिल्ली अपने घर आ रहा था। वह बाइक पर पीछे बैठा था और बाइक उसका दोस्त चला रहा था।

इस दौरान नोएडा में सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल होने के बाद उसे गंगा राम अस्पताल लाया गया। उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। इसलिए डॉक्टरों ने सबसे पहले ट्रेकियोस्टोमी करके उसके गले में एक ट्यूब डाल दी, ताकि वह सांस ले सके। अस्पताल के प्लास्टिक व कास्मेटिक सर्जरी विभाग के विशेषज्ञ डा. भीम सिंह नंदा ने बताया कि सीटी स्कैन में पता चला कि उसके सिर के अंदरूनी हिस्से में गंभीर चोट नहीं है लेकिन चेहरे की हड्डियों में 16 फ्रैक्चर थे।

न्यूरो सर्जरी के 10 डॉक्टरों की बनाई गई टीम

मुंह की हड्डी चूर-चूर हो गई थी। इसके मद्देनजर प्लास्टिक व कास्मेटिक सर्जरी और न्यूरो सर्जरी के 10 डॉक्टरों की टीम बनाई गई और मरीज की हालत स्थिर होने पर तीन जनवरी को सर्जरी की गई। चेहरे पर कई घाव थे। इस कारण चेहरे की त्वचा पर कोई अतिरिक्त कट किए बगैर आंख के नजदीक की हड्डी से फ्रैक्चर को ठीक करने का काम शुरू किया गया। जबड़े के निचले हिस्से तक ही हड्डी को ठीक किया गया।

फ्रैक्चर को टाइटेनियम मिनी प्लेट और स्क्रू से जोड़ा गया। इस प्रक्रिया में टाइटेनियम के छह प्लेट और दो दर्जन स्क्रू का इस्तेमाल हुआ। पीड़ित युवक की जीभ, होंठ व नाक की चोट को भी प्लास्टिक सर्जरी से ठीक किया गया। अब मरीज बातचीत कर रहा है और तरल आहार ले रहा है। उसे जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

Edited By: Abhishek Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट