नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। मध्य जिला पुलिस ने पटेल नगर इलाके में चौथी मंजिल से फेंककर की गई दया राम की हत्या की गुत्थी सुलझा ली है। रास्ते से हटाने के लिए प्रेमी ने मृतक की पत्नी के साथ मिलकर दया राम की हत्या की योजना बनाई थी। पुलिस ने आरोपित अर्जुन मंडल और महिला अनीता को गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से मृतक के मोबाइल फोन व अन्य सबूत बरामद कर लिए गए हैं।

मध्य जिला के पुलिस उपायुक्त एमएस रंधावा ने बताया कि 17 अक्टूबर की सुबह पटेल नगर थाना को सूचना मिली थी कि ईस्ट पटेल नगर स्थित एक निर्माणाधीन इमारत में एक व्यक्ति का शव पड़ा हुआ है। मृतक की पहचान दया राम नाम के मजदूर के रूप में हुई। मामले की छानबीन में मध्य जिला स्पेशल स्टाफ के इंस्पेक्टर ललित कुमार, एसआइ संदीप गोदारा और पटेल नगर एसएचओ रमेश लांबा को लगाया गया।

तकनीकी सर्विलांस से पता चला कि 16 अक्टूबर की शाम को वारदात को अंजाम दिया गया था। घटना से पूर्व मृतक, उसकी पत्नी और एक अन्य शख्स के मोबाइल की लोकेशन एक स्थान पर आ रही थी। इस पर मृतक की पत्नी अनीता से पूछताछ की गई तो उसने प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या की बात कबूल कर ली। उसने बताया कि पहले दया राम को दोनों ने शराब पिलाई इसके बाद इमारत से 50 फीट नीचे धक्का दे दिया। उन्होंने बताया कि इतनी ऊपर से गिरने के बाद दयाराम की मौत तय थी और ऐसा ही हुआ, लेकिन बाद में पकड़े गए।

अर्जुन मंडल मूल रूप से पश्चिम बंगाल के मालदा का रहने वाला है और गत 10 वर्ष से दिल्ली में राजमिस्त्री का काम कर रहा है। तीन वर्ष से अर्जुन के अवैध संबंध अनीता से थे। दया राम के विरोध के कारण दोनों ने उनको रास्ते से हटाने की योजना बनाई थी। मूल रूप से मध्य प्रदेश निवासी अनीता की शादी 17 वर्ष पहले दया राम से हुई थी। उनका 15 वर्ष का एक बेटा भी है। अनीता राजेंद्र नगर इलाके में घरेलू सहायिका का काम करती है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप