नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली विश्वविद्यालय खोलने को लेकर चला आ रहा संशय अब खत्म हो गया। इसे खोलने को लेकर आधिकारिक बयान आ गया है। अब डीयू 17 फरवरी से खुलेगा। इस दौरान प्रथम सेमेस्टर के छात्रों को अभी नहीं बुलाया जाएगा, बाकि स्नातक, स्नातकोत्तर के सभी छात्रों को बुलाया जाएगा। 

प्राक्टर प्रो. रजनी अब्बी ने दैनिक जागरण को बताया कि प्रथम सेमेस्टर के छात्रों की मार्च में ओपन बुक परीक्षा होनी है। यदि उन्हें बुलाते हैं तो उनके लिए रुम या छात्रावास का प्रबंध करना मुश्किल होगा। इसलिए कुछ दिन के लिए उन्हें बुलाना तर्कसंगत नहीं लगता, लेकिन हम स्नातक के द्वितीय, तृतीय वर्ष और स्नातकोत्तर के छात्रों को परिसर में प्रवेश की अनुमति देंगे। कक्षाए आफलाइन चलेंगी। बता दें कि इससे पहले ही डीयू को खोलने की मांग काफी जोर पकड़ती जा रही थी। कुलपति ऑफिस के पास छात्र लगातार प्रदर्शन कर रहे थे।

कौन कौन संगठन उठा रहे थे खोलने की मांग

  • आम आदमी पार्टी समर्थित सीवाइएसएस
  • आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा)
  • स्टूडेंट फेडरेशन आफ इंडिया (एसएफआइ)
  • क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाइएस)

क्या -क्या हुआ प्रदर्शन के दौरान

मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान आम आदमी पार्टी समर्थित छात्र संगठन सीवाइएसएस के सदस्य कमल तिवारी ने आत्मदाह की कोशिश की। छात्र ने अपने ऊपर पेट्रोल छिड़क लिया। माचिस भी जलाने वाला था तभी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। दिल्ली पुलिस ने इस बाबत बयान भी जारी किया, जिसमें कहा गया कि पेट्रोल में पानी मिला हुआ था। छात्र को हिंदूराव अस्पताल ले जाया गया। पुलिस ने छात्र के खिलाफ किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई से भी इन्कार किया। दिल्ली पुलिस ने कहा कि छात्र के खिलाफ कानूनी कार्रवाई नहीं की गई है, उसकी काउंसलिंग कराई गई है। छात्र संगठनों के प्रदर्शन के कारण नार्थ कैंपस के छात्र मार्ग को बंद करना पड़ा था।

Edited By: Prateek Kumar