नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। दिल्ली एनसीआर में सोमवार सुबह मौसम खराब हो गया। सुबह से तेज बारिश के चलते कई इलाकों में सड़कों पर भारी जलभराव हो गया। दिल्ली से लेकर नोएडा, गाजियाबाद समेत एनसीआर के अधिकतर इलाकों में सड़कों पर जलजमाव से लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नरसिंहपुर गांव के पास दिल्ली-जयपुर हाईवे पर जलभराव होने से सड़क पर वाहन रेंगते हुए नजर आए। तेज हवाओं के चलते कई इलाकों में पेड़ गिर गए। वहीं तेज आंधी तूफान की वजह से कई जगहों पर बत्ती गुल हो गई। 

दिल्ली में सुबह से हो रही भारी बारिश से आईटीओ के पास जाम की स्थिति देखने को मिली। वाहनों की लंबी लंबी कतारे लग गई। जिससे लोग परेशान होते नजर आए।

बारिश की वजह से इफको चौक से दिल्ली गुड़गांव एक्सप्रेस-वे पर जलभराव हो गया है। लोगों को आवागमन में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्ली एनसीआर में कुछ दिनों से गर्मी बर्दाश्त से बाहर हो गई थी। आज हुई बारिश से लोगों को प्रचंड गर्मी से राहत जरूर मिल गई है। लेकिन सड़कों पर जलभराव लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है।

गाजियाबाद में एनएच-9 की सर्विस लेन पर राहुल विहार के पास काफी जलभराव हो गया है।

फरीदाबाद में सोमवार सुबह से हो रही तेज बारिश के चलते जवाहर कालोनी की सड़क पर जलजमाव हो गया। जिससे लोगों को आने-जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में आज दिनभर बारिश और तेज हवाओं का दौर जारी रहेगा। तेज हवाओं की वजह से दिल्ली-एनसीआर में कई जगहों पर करीब 100 पेड़ टूटकर गिर गए हैं जिससे यातायात बाधित हो रहा है। कल भी ऐसा ही मौसम रहने के आसार हैं।

हर साल की तरह इस बार भी बारिश में गुड़गांव नरसिंहपुर स्थित दिल्ली गुड़गांव एक्सप्रेसवे के मुख्य ट्रक और सर्विस लाइन पर भारी जलभराव हो गया है।

सरिता विहार अंडरपास में ब्लाकेज की वजह से पानी भर गया। जिससे नोएडा से दिल्ली जाने वाले लेन में भीषण जाम लग गया।

भारी बारिश के चलते पुल प्रह्लादपुर अंडरपास जलमग्न हो गया। पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों पर गौर करें तो 23 से 25 मई के बीच अधिकतम तापमान 39.9 जबकि न्यूनतम 26.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। वहीं, 26 से 30 मई के बीच देखें तो अधिकतम तापमान 40.4 और न्यूनतम तापमान 26.8 डिग्री रहा है। 28 मई के बाद मौसम साफ होगा। तेज धूप निकलेगी। इससे पहले धूप के साथ बीच-बीच में बादल आते-जाते रहेंगे।

Edited By: Abhishek Tiwari