गाजियाबाद, जागरण डिजिटल डेस्क। दिल्ली एनसीआर को प्रदूषण से बचाने के लिए एक अक्टूबर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) लागू कर दिया गया। लेकिन यहां प्रदूषण अभी भी कम नहीं हो रहा है। दिल्ली से सटा उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद जिला देश का सबसे प्रदूषित शहर बन गया है। पिछले एक सप्ताह में इस जिले देश के सबसे प्रदूषित शहरों में सूचित किया गया है।

गाजियाबाद का बुधवार को एक्यूआई (AQI, वायु गुणवत्ता सूचकांक) 248 दर्ज किया गया। जबकि गुरुग्राम का एक्यूआई 238 रहा, जिससे यह देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर बन गया, जबकि ग्रेटर नोएडा 234 पर एक्यूआई के साथ तीसरे स्थान पर था। वहीं, दिल्ली की एक्यूआई एक्यूआई 211 था, जो गाजियाबाद से 37 अंक कम था।

बारिश की वजह से कम हुआ प्रदूषण

बुधवार को हुई बारिश से लोगों को गर्मी के साथ प्रदूषण से भी राहत मिली। गाजियाबाद में प्रदूषण के स्तर में 149 अंक तक की गिरावट दर्ज की गई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की वेबसाइट पर बृहस्पतिवार सुबह 10 बजे गाजियाबाद एक्यूआइ 99 दर्ज किया गया। इससे लोगों ने राहत की सांस ली है। अगले चार दिन तक अभी बारिश के अनुमान हैं। यदि बारिश हुई तो लोगों को प्रदूषण और गर्मी से और राहत मिलेगी।

ये भी पढ़ें- पुराने और घटिया टीवी की वजह से हुआ धमाका, एलईडी में ब्लास्ट से गई थी छात्र की जान

तापमान भी हुआ कम

एक्यूआइ 50 से 100 तक संतोषजनक माना जाता है। प्रदूषण के स्तर में गिरावट से मौसम साफ हुआ है। सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं। बारिश हुई तो लोगों को प्रदूषण से और राहत मिलेगी। बृहस्पतिवार सुबह गाजियाबाद का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

अगले चार दिन दिल्ली एनसीआर में बारिश के अनुमान हैं। ऐसे में अधिकतम तापमान 35 और न्यूनतम 23 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी उत्सव शर्मा का कहना है कि बारिश के कारण प्रदूषण का स्तर संतोषजनक श्रेणी में आ गया है।

ये भी पढ़ें- Ghaziabad: इनकम टैक्स विभाग की कार से निकली हिस्ट्रीशीटर के भाई की बारात, नीली बत्ती के साथ बज रहा हूटर

जिले में लोनी रहता है सबसे प्रदूषित

गाजियाबाद का लोनी इलाका सबसे ज्यादा प्रदूषित रहता है। बुधवार को यहां का एक्यूआइ सर्वाधिक 291 दर्ज किया गया था। बृहस्पतिवार को यहां का एक्यूआइ 199 दर्ज किया गया। लोनी में जगह जगह सड़कें टूटी हैं, जिनसे धूल उड़ती है। जाम में फंसे वाहन धुआं उगलते हैं।

बड़ी संख्या में अवैध तरीके से फैक्ट्रियां चल रही हैं। इन कारणों से यहां प्रदूषण कम नहीं होता है। नगर पालिका परिषद की ओर से सड़कों की सफाई व पानी का छिड़काव तक सही तरीके से नहीं हो रहा है।

जिले के स्टेशनों पर बुधवार व बृहस्पतिवार को प्रदूषण की स्थिति

स्थान                      बुधवार एक्यूआइ                बृहस्पतिवार एक्यूआइ

लोनी                             291                                    199

वसुंधरा                          269                                    108

इंदिरापुरम                     259                                      96

संजय नगर                    175                                       73

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट