नई दिल्ली [लोकेश चौहान]। अवैध हथियारों की तस्करी के साथ लूट की घटनाओं में शामिल दो बदमाशों को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मंगलवार देर रात मुठभेड़ के बाद बजीराबाद क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। आरोपित बदमाशों की पहचान उत्तर प्रदेश के बिजनौर के हातिमपुरा शेख गांव के रहने वाले रवि और बिजनौर के पठानपुरा के रहने वाले मुस्कीम उर्फ बुड्ढा के रूप में हुई है। आरोपितों ने पुलिस से बचकर भागने के लिए चार राउंड फायर भी किए, लेकिन पुलिस की गोली रवि घायल हो गया और मुस्कीम को उसके साथ पकड़ लिया गया। दोनों के पास से एक-एक पिस्टल और एक बाइक बरामद की गई है। आरोपी आधा दर्ज लूट की वारदात में शामिल रहे थे।

छात्र की कब्र पर 'वह' रोज छिड़कता था परफ्यूम, ऐसे खुला 6 ft नीचे दबी का लाश का राज

जिम और डांस करते समय न करें यह गलती, हो सकता है लकवा; जा सकती है जान

Good news for Metro commuters : यात्रियों को DMRC का तोहफा, घर तक पहुंचना होगा और आसान

डीसीपी पीएस कुशवाहा ने बताया कि स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि अवैध हथियारों की तस्करी और लूट की घटनाओं में शामिल बदमाश इमरान अपने साथी 'बुड्ढा', मुल्ला और रवि के साथ मिलकर दिल्ली में किसी घटना को अंजाम देने की फिराक में है। इसके लिए बदमाशों ने पुलिस की वर्दी और वाहन की व्यवस्था कर ली है।

मामले में आगे जांच करने पर मंगलवार की रात सात बजे पता लगा कि रवि और उसका साथी बुड्ढा रात में साढ़े नौ बजे वजीराबाद में मिलने वाले हैं। इसके बाद वे किसी घटना को अंजाम देंगे। दोनों वहां किसी बाइक से आएंगे, जिसका नंबर 9088 है। इसके तुरंत बाद इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार त्यागी और अजय कुमार के नेतृत्व में एसआई विकास दीप त्यागी, राजकुमार, एएसआइ उमेश, नरेंद्र, सतेंद्र कुमार न अन्य पुलिसकर्मियों की टीम ने मौके पर घेराबंदी की। काले रंग की बाइक से आए बदमाशों को पुलिस टीम ने रुकने का इशारा किया। लेकिन दोनों ने टीम पर गोली चलाकर भागने की कोशिश की।

सेल ने भी बचाव में बदमाशों पर गोली चलाई। बदमाश वाहन छोड़कर भागने की कोशिश करने लगे थे। इस दौरान बदमाशों ने चार राउंड फायर किए। इनमें से एक गोली एसआइ विकास दीप की छाती में लगी, लेकिन उन्होंने बुलेट प्रूफ जैकेट पहन रखी। बदमाशों को पकड़ने के लि जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने सात राउंड फायर किए। एक गोली बदमाश रवि के पैर में लगी। जबकि दूसरे बदमाश बुड्ढा उर्फ मुस्तकीम को पकड़ लिया गया। रवि को तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया। बदमाशों के पास से दो पिस्टल, चार कारतूस और पुलिस की वर्दी भी बरामद की गई है।

पूछताछ में पता लगा कि रवि और उसका भाई एक दर्जन से अधिक मामलों में शामिल रहे हैं। उसके खिलाफ दिल्ली और उत्तर प्रदेश में कई मामले कोर्ट में चल रहे हैं। जमानत मिलने के बाद से वह लगातार पुलिस से बच रहा है। कई मामलों में उसके खिलाफ गैरजमानती वारंट भी जारी हो चुके हैं। लूट की घटनाओं को अंजाम देने के लिए वह और उसके साथी पुलिस की वर्दी का प्रयोग करते थे, जिससे आसानी से शिकार को दबोच सकें। मुस्तकीम ने बताया कि वह भी कई बार जेल जा चुका है और रवि व गिरोह के अन्य बदमाशों के साथ लूट की कई घटनाओं में शामिल रहा है। 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस