नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। बिजली लाइन और ट्रांसफार्मर की निगरानी अब ड्रोन से होगी। बांबे सबअर्बन इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई (बीएसईएस) ने इसकी शुरुआत की है। पहले चरण में पूर्वी दिल्ली के पटपड़गंज व विवेक विहार और पश्चिमी दिल्ली के पश्चिम विहार और बुडेला इलाके में ड्रोन तैनात किए गए हैं। इससे बिजली लाइन में खराबी का समय रहते पता लगाकर उसे दुरुस्त किया जा सकेगा। इसके साथ ही बिजली चोरी रोकने में भी मदद मिलेगी।

ड्रोन में अत्याधुनिक इन्फ्रारेड थर्मो स्र्कैंनग तकनीक और उच्च क्षमता वाले कैमरे लगाए गए हैं। इनकी मदद से बीएसईएस के बिजली वितरण क्षेत्र में स्थित ग्रिड स्टेशनों, जगह-जगह लगे ट्रांसफॉर्मर व अन्य उपकरणों पर नजर रखी जाएगी। किसी उपकरण में कोई बदलाव होने पर ड्रोन में लगे कैमरों से फोटो खींचकर बीएसईएस के कंट्रोल रूम में भेजी जाएगी। फोटो के साथ ही उस स्थान की भी जानकारी होगी जहां पर बिजली उपकरण में खराबी आने की संभावना है जिससे कि बिजली कर्मियों को वहां पहुंचने में मदद मिलेगी।

निर्बाध बिजली आपूर्ति में मदद मिलेगी

बीएसईएस अधिकारियों का कहना है कि इस पहल से निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। बिजली चोरी भी आसानी से पकड़ी जाएगी। बिजली लाइन से गलत तरह से कनेक्शन लेकर बिजली चोरी करने वालों की सही जानकारी मिलने पर उनके खिलाफ सुबूत के साथ कार्रवाई संभव हो सकेगी। सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी, क्योंकि ड्रोन से उन इमारतों की जानकारी मिल सकेगी जिनकी छतों पर सोलर पैनल लगाए जा सकते हैं। इसकी जानकारी मिलने पर संबंधित व्यक्ति से संपर्क कर सौर ऊर्जा का महत्व बताकर उसे राजी किया जा सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस