गुरुग्राम / मानेसर, जागरण संवाददाता। सेना में अहीर रेजिमेंट की मांग को लेकर धरने पर बैठे समाज के लोगों ने 18 नवंबर से दिल्ली जयपुर हाईवे (Delhi Jaipur Highway) को जाम करने का फैसला लिया है। संयुक्त अहीर रेजिमेंट मोर्चा (Joint Ahir Regiment March) की तरफ से पिछले दिनों की गई बैठक में यह फैसला लिया गया है।

कई सामाजिक संगठन भी दे चुके हैं समर्थन

बता दें कि कि चार फरवरी से खेड़की दौला टोल प्लाजा के नजदीक धरने पर बैठे यादव समाज के लोगों ने कहा कि इस बार किसी भी कीमत पर पीछे नहीं हटा जाएगा और रेजिमेंट का गठन करवाया जाएगा। सरकार ने काफी समय से हमारी जायज मांग को नहीं माना है। इससे समाज मे रोष है। इस मांग के समर्थन में चल रहे धरने में कई राजनीतिक और सामाजिक दलों ने हिस्सा लेकर सेना में गठन के लिए अहीर रेजिमेंट की मांग की जा चुकी है।

समाज के लोग कई बार दे चुके हैं समन

इससे पहले सेना में अहीर रेजीमेंट की मांग को लेकर 23 सितंबर को अहीर समाज की तरफ से दिल्ली के जंतर मंतर पर एक दिन का धरना दिया था। इससे पहले कई बार यादव समाज की तरफ से अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा जा चुका है।

आगे भी कमेटी ही लेगी सभी निर्णय

संयुक्त अहीर रेजिमेंट मोर्चा के सदस्यों ने कहा कि सेना में अहीर रेजिमेंट यादव समाज का हक है। कई बार धरना प्रदर्शन किया है, लेकिन कोई इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा है। अब शांतिप्रिय धरने को आंदोलन के रूप में लाया जाएगा और 18 नवंबर से दिल्ली जयपुर को जाम किया जाएगा। इसके बाद कमेटी की तरफ से जो फैसला लिया जाएगा उसी के तहत आगे बढ़ा जाएगा।

बड़ी संख्या में समाज के लोग हुए शामिल

इस बैठक में संयुक्त अहीर रेजिमेंट मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र यादव, अरुण यादव खेड़की दौला, श्योचंद सरपंच शिकोहपुर, गजराज सरपंच मानेसर, सतीश पार्षद नवादा, मनोज यादव, धर्म सिंह नंबरदार बादशाहपुर, मोनू खेड़की दौला, नरेश यादव रामपुरा समेत काफी लोग मौजूद रहे। 

Edited By: JP Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट