नई दिल्ली, एजेंसी। दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के नेताओं को बड़ा झटका दिया है। हाई कोर्ट ने आप नेताओं से दिल्ली के उपराज्यपाल के खिलाफ अमर्यादित पोस्ट हटाने के लिए कहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई से मिली जानकारी के मुताबिक, हाई कोर्ट ने दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना (LG Vinay Saxena) के पक्ष में अंतरिम आदेश पारित किया है। हाई कोर्ट ने आम आदमी पार्टी के नेताओं को दिल्ली के उपराज्यपाल के खिलाफ कथित अमर्यादित पोस्ट हटाने के निर्देश दिए हैं।

PFI Raids: दिल्ली के शाहीनबाग और जामिया के अलावा गाजियाबाद में भी पीएफआइ के कई ठिकानों पर रेड

बता दें कि आम आदमी पार्टी के प्रमुख नेताओं संजय सिंह (Sanjay Singh), सौरभ भारद्वाज (Saurabh Bhardwaj), आतिशी समेत कई के विरुद्ध दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने मानहानि का मुकदमा दायर किया था। एलजी की मानहानि से जुड़े मामले में की गई अपील पर हाई कोर्ट ने आज अंतरिम आदेश दिया है।

कोर्ट ने AAP नेताओं को एलजी विनय कुमार सक्सेना के खिलाफ खिलाफ सोशल मीडिया पर अमर्यादित पोस्ट हटाने के लिए कहा है। कोर्ट ने इससे पहले 22 सितंबर को इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था।

सफाई देने से किया इनकार

मानहानि का केस फाइल करने से पहले एलजी विनय कुमार सक्सेना ने AAP के नेताओं को नोटिस जारी कर सफाई मांगी थी, लेकिन आम आदमी पार्टी के नेताओं ने इससे इनकार कर दिया था।

क्या है मामला?

दिल्ली आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह, सौरभ भारद्वाज, आतिशी ने उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना पर नोटबंदी के दौरान 1400 करोड़ रुपये का घोटाले करने का आरोप लगाया था।

एलजी के खिलाफ AAP ने किया था प्रदर्शन

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने एलजी पर घोटाले का आरोप लगाने के साथ उनके खिलाफ प्रदर्शन भी किया था। राजेंद्र नगर सीट से AAP विधायक दुर्गेश पाठक ने एलजी को ''भ्रष्ट'' बताते हुए उनके खिलाफ सीबीआई और ईडी की जांच की मांग की थी। इसके साथ ही AAP नेताओं ने हाथ में पोस्टर-बैनर लेकर पहले सदन के अंदर और फिर बाहर प्रदर्शन किया था।

Edited By: Agency

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट