नई दिल्ली, एएनआइ/जेएनएन। दिल्ली नगर निगम के पांच वार्डों में हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को एक भी सीट नहीं मिली। जबकि खराब प्रदर्शन से गुजर रही कांग्रेस एक सीट जीतने में कामयाब हो गई। जिन पांच सीटों पर उपचुनाव हुए थे उनमें भाजपा एक सीट पर काबिज थी। लेकिन वह यह सीट भी बरकरार नहीं रख सकी। वहीं, निगम में विपक्ष की भूमिका निभा रही आम आदमी पार्टी पांच में से चार सीटों पर जीत दर्ज करने में कामयाब रही।  उपचुनाव में भाजपा का खाता नहीं खुलने पर पार्टी की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी हार का विश्लेषण करेगी।

आदेश गुप्ता ने कहा कि हम अपनी रणनीति पर पुनर्विचार करेंगे और आवश्यक बदलाव करेंगे। हम अपनी कमियों में सुधार करेंगे और 2022 के दिल्ली नगरपालिका चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेंगे।  

भाजपा ने कहा जो कमी होगी उसे दूर करेंगे

वहीं, दिल्ली भाजपा के महामंत्री हर्ष मल्होत्रा ने कहा है कि निस्संदेह निगम उपचुनाव के परिणाम हमारी आकांक्षा के अनुरूप नही हैं खासकर शालीमार बाग का पर हम लोकतंत्र में जनमत को स्वीकार करते हैं। हम शालीमार बाग सहित सभी वार्डों के चुनाव परिणाम की समीक्षा कर अपनी कमियां पहचानेंगे और 2022 के निगम चुनाव में जीत दर्ज करेंगे।

बता दें कि शालीमार बाग सीट पर भाजपा 1997 से कभी नहीं हारी थी। लेकिन पार्टी उम्मीदवार को 2705 वोटों से हार मिली। यह सीट भाजपा का मजबूत किला माना जाती थी। अगले साल 2022 में दिल्ली में नगर निगम के चुनाव होने हैं। इसलिए उपचुनाव में मिली हार ने पार्टी की चिंता बढ़ा दी है। इस उपचुनाव में सबसे ज्यादा फायदे में कांग्रेस रही है जबकि भाजपा को निराशा हाथ लगी है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021